Sunday, September 25, 2022
HomeGovt Schemeकार चलने वालो के लिए अच्छी खबर अब 2024 से पहले आने...

कार चलने वालो के लिए अच्छी खबर अब 2024 से पहले आने वाली करो में होंगे 6 एयरबेग…

6 Airbag Car : बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान कारों में एयरबैग का मुद्दा उठाया. उन्होंने केंद्रीय मंत्री से पूछा कि देश में हर साल सड़क हादसों में 1.5 लाख मौतें होती हैं.

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने लोकसभा में कई मुद्दों पर अपना नजरिया स्पष्ट किया। उन्होंने कहा कि वह एक्सप्रेस-वे पर टोल टैक्स के जनक हैं। 1990 के दशक के अंत में राज्य मंत्री के रूप में, उन्होंने महाराष्ट्र में पहली सड़क बनाई जहां टोल टैक्स लगाया जाता है। उन्होंने यह भी बताया कि सरकार देश भर में 26 ग्रीन एक्सप्रेसवे बना रही है। ये 2024 से पहले तैयार हो जाएंगे। ग्रीन एक्सप्रेस दिल्ली से देहरादून, दिल्ली से हरिद्वार, दिल्ली से जयपुर सिर्फ 2 घंटे में पहुंचेगी। हालांकि, कारों में 6 एयरबैग कब लागू किए जाएंगे, इस पर उन्होंने स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा।

सांसद निशिकांत दुबे ने 6 एयरबैग पर पूछे सवाल
बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान कारों में एयरबैग का मुद्दा उठाया. उन्होंने केंद्रीय मंत्री से पूछा कि देश में हर साल सड़क हादसों में 1.5 लाख मौतें होती हैं. सरकार ने फैसला किया है कि हर कार में कम से कम 6 एयरबैग अनिवार्य किए जाएंगे। इसके ड्राफ्ट नोटिफिकेशन की तारीख इस साल अक्टूबर की है, लेकिन अभी इसे जारी नहीं किया गया है। इसका नोटिफिकेशन कब आएगा, जिससे कंपनियों के लिए 6 एयरबैग की नीति लागू की जा सके।

नितिन गडकरी ने जवाब दिया
निशिकांत दुबे के इस सवाल का जवाब देते हुए नितिन गडकरी ने कहा कि देश में हर साल 5 लाख सड़क हादसे होते हैं, जिनमें 1.5 लाख लोगों की जान जाती है. फिलहाल, कार में ड्राइवर और आगे की सीट वाले यात्री के लिए एयरबैग जरूरी हैं। पीछे बैठे लोगों के लिए एयरबैग का कोई नियम नहीं है। हालांकि, सरकार ने फैसला किया है कि वह सभी यात्रियों के लिए एयरबैग लागू करेगी। उन्होंने बताया कि एक एयरबैग की कीमत मात्र 800 रुपये है. सरकार इस प्रस्ताव पर विचार कर रही है. इसे भी जल्द ही लागू कर दिया जाएगा। उन्होंने यह नहीं बताया कि कार कंपनियों के लिए यह कब अनिवार्य होगा।

मैं टोल टैक्स का जनक हूं: गडकरी
इससे पहले बुधवार को नितिन गडकरी ने कहा था कि वह देश में एक्सप्रेसवे पर टोल टैक्स के जनक हैं। 1990 के दशक के अंत में राज्य मंत्री के रूप में, उन्होंने महाराष्ट्र में पहली सड़क बनाई जहां टोल टैक्स लगाया जाता है। संसद सदस्यों ने शहर की सीमा के भीतर एक्सप्रेसवे पर टोल प्लाजा स्थापित करने पर चिंता जताई थी। उनका तर्क था कि लोगों को किसी छोटे काम के लिए शहर के अंदर आने पर भी टोल देना पड़ता है, जो सही नहीं है। इसके जवाब में उन्होंने ये बात कही. गडकरी ने आश्वासन दिया कि हम इस समस्या पर काम कर रहे हैं।

2024 तक देश में अमेरिका जैसी सड़कें
नितिन गडकरी ने सदन को बताया कि 2024 तक भारत की सड़कें अमेरिका जैसी हो जाएंगी। एनएचएआई के पास फंड की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि हम देश में सड़क के बुनियादी ढांचे का चेहरा बदलने के लिए प्रतिबद्ध हैं। फंड की उपलब्धता पर उन्होंने कहा कि एनएचएआई हर साल पांच लाख करोड़ रुपये की सड़कों का निर्माण कर सकता है. देश में ग्रीन एक्सप्रेस-वे का निर्माण भी चल रहा है। एक्सप्रेस-वे बनने के बाद यह दिल्ली से 12 घंटे में मुंबई पहुंच जाएगा। वहीं, दिल्ली से देहरादून, दिल्ली से हरिद्वार, दिल्ली से जयपुर का सफर सिर्फ 2 घंटे का होगा। दिल्ली से चंडीगढ़ पहुंचने में 2.30 घंटे लगेंगे।