Wednesday, October 5, 2022
HomeUncategorizedAmerica News: अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में हुई गोलीवारी में एक की...

America News: अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में हुई गोलीवारी में एक की मौत और 6 लोग घायल…

America News: एमपीडी प्रमुख रॉबर्ट कोंटी ने गोलीबारी में छह लोगों के घायल होने और एक की मौत की पुष्टि की। घायलों में अभी तक किसी की पहचान नहीं हो पाई है। कोंटी ने पुष्टि की है कि सभी घायल पुरुष हैं।

अमेरिका में लगातार फायरिंग की घटनाएं हो रही हैं. तमाम सख्ती के बावजूद ये घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं. सोमवार को भी अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में गोलीबारी हुई थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमलावरों ने सोमवार को वाशिंगटन डीसी के पूर्वोत्तर इलाके में अंधाधुंध फायरिंग की. इस हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई और 6 लोग घायल हो गए।

फायरिंग एफ स्ट्रीट एनई के 1500 ब्लॉक में हुई। वाशिंगटन डीसी पुलिस ने कहा कि घटना की जांच की जा रही है। मेट्रोपॉलिटन पुलिस डिपार्टमेंट (एमपीडी) के मुताबिक, फायरिंग सोमवार रात करीब साढ़े आठ बजे हुई। एमपीडी प्रमुख रॉबर्ट कोंटी ने इस गोलीबारी में छह लोगों के घायल होने और एक के मारे जाने की पुष्टि की। घायलों में अभी तक किसी की पहचान नहीं हो पाई है। कोंटी ने पुष्टि की है कि सभी घायल पुरुष हैं। गोली मारने की वजह के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

इससे पहले अमेरिका में स्वतंत्रता दिवस परेड के दौरान फायरिंग की घटना हुई थी. शिकागो के हाइलैंड पार्क इलाके में स्वतंत्रता दिवस परेड निकाली जा रही थी. यह फायरिंग इसी परेड के दौरान हुई. शूटिंग के बाद शिकागो के हाइलैंड इलाके में अफरातफरी मच गई। इस गोलीबारी में 5 लोगों की मौत हो गई.

खुदरा दुकान की छत से बरसी गोलियों की बौछार

अमेरिका में 4 जुलाई को इलिनोइस के हाईलैंड पार्क में स्वतंत्रता दिवस परेड का आयोजन किया गया था। इसी दौरान शूटर ने स्वतंत्रता दिवस परेड में शामिल लोगों पर फायरिंग शुरू कर दी। शूटर ने छत से फायरिंग की। रिपोर्ट के मुताबिक इस फायरिंग में कई लोगों के मारे जाने की खबर है. शूटर एक खुदरा दुकान की छत पर चढ़ गया और वहां के लोगों पर फायरिंग शुरू कर दी।

हाल ही में आया बंदूक विरोधी हिंसा कानून

आपको बता दें कि हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने एंटी गन वायलेंस बिल को मंजूरी दी थी। बिल को डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन दोनों राजनीतिक दलों का समर्थन मिला। टेक्सास के एक स्कूल में अंधाधुंध फायरिंग में एक बंदूकधारी ने 19 छात्रों और दो शिक्षकों की बेरहमी से हत्या कर दी. इस घटना के बाद से ही सरकार पर देश में हथियार खरीदने से जुड़े सख्त कानून के लिए दबाव बनाया जा रहा था.