अयोध्या राम मंदिर में स्थापित रामलला की मूर्ती का रंग काला ही क्यों? जानिए इसके पीछे की बड़ी वजह…

Written by Deepak

Published on:

अयोध्या राम मंदिर में स्थापित रामलला की मूर्ती का रंग काला ही क्यों? जानिए इसके पीछे की बड़ी वजह…, पिछले महीने अयोध्या में 22 जनवरी को देश में माननीय प्रधानमंत्री द्वारा अयोध्या राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम सम्पन्न किया गया। जिसमे देश-विदेश के कई सारे लोग शामिल हुए जिसमे कई दिग्गज नेता, सेलेब्रिर्टी, क्रिकेटर्स, बॉलीवुड एक्टर्स शामिल हुए। ऐसे में सबके मन में एक सवाल आ खड़ा हुआ है कि राम मंदिर में स्थापित रामलला की मूर्ती का रंग काला ही क्यों और कोई रंग क्यों नहीं? आइये जानते है इसके पीछे का जवाब क्या है…

ये भी पढ़े- केवल जीनियस लोग ही खोज पाएंगे lazy Panda की इस फोटो में छुपे 3 अंतर, क्या आप खोज पाओगे

अगर आपके मन में भी यह सवाल आ रहा है तो टेंशन मत लीजिये क्योकि हम इसका उत्तर आपके लिए लेकर आये है। जी हां यह सोचना सभी का लाजमी लेकर इसका उत्तर जानना भी आपके लिए बेहद जरुरी है। अयोध्या राम मंदिर में स्थापित रामलला की मूर्ती का निर्माण काले रंग के पत्थर से किया गया है। इस काले पत्थर को कृष्ण शिला के नाम से भी जाना जाता है। यही वजह है कि रामलला की मूर्ति श्यामल है।

अयोध्या राम मंदिर में स्थापित रामलला की मूर्ती का रंग काला ही क्यों? जानिए इसके पीछे की बड़ी वजह…

ये भी पढ़े- Ranji Trophy 2024 में गुजरात टाइटंस के स्टार खिलाड़ी के नए लुक ने खीचा ध्यान, दिलाई 80 और 90 दशक के क्रिकेटर्स की याद

राम मंदिर में स्थापित रामलला की मूर्ती का रंग काला ही क्यों? जानिए वजह…

अगर हम इसका पूर्ण रूप से विस्तार से समझाए तो स्वामी वाल्मिकी जी ने अपनी किताब रामायण में प्रभु श्री राम जी वर्णन श्यामल रूप में किया गया है। जिसकी वजह से इस मूर्ती को काले पत्थर से तराशा गया है। इसके अलावा इस श्यामल रूप से इस मूर्ती का महत्त्व और भी बढ़ गया है। ऐसा माना गया है कि भगवान श्री राम जी की मूर्ती को जिस पत्थर से बनाया गया है वह हजारो सालो तक ख़राब नहीं होती है। सके अलावा हिंदू अनुष्ठानों के दौरान मूर्ति पर इस्तेमाल करने वाली चीजें जैसे- दूध, पानी, हल्दी, कुमकुम आदि पदार्थों का इसपर कोई बुरा असर नहीं पड़ता।

Leave a Comment