Banke Bihari Mandir: क्यों लगाया जाता है बांके बिहारी मंदिर में बार-बार पर्दा, जानिए पर्दा प्रथा का रहस्य

Written by Ankita

Published on:

Banke Bihari Mandir : वृंदावन का बांके बिहारी मंदिर दुनियाभर में प्रख्यात है। दूर-दूर से करोड़ों श्रद्धालु श्री बांके बिहारी के दर्शनों के लिए वृंदावन पहुंचते हैं। श्री बांके बिहारी के दर्शन मात्र से ही व्यक्ति अपने सभी दुख-दर्द भूल जाता है और उन्हें एक टक बस निहारता ही रहता है। बांके बिहारी की कृपा लोगों को वहां खुद-ब खुद खींच लाती है. लेकिन मंदिर से जुड़े कई रहस्यों के बारे में आज भी कोई नहीं जनता हैं. इस मंदिर में बांके बिहारी के दर्शन बार-बार पर्दा लगाकर कराएं जाते है.

यह भी पढ़े:- Skin Care tips: चेहरे का निखार बरकरार रखने के लिए करें ओट्स का इस्तेमाल, जानें फायदे

अगर आप इस मंदिर में गए है तो आपने देखा होगा कि वहां एक पर्दा प्रथा होती है, जिसकी वजह से बांके बिहारी जी के दर्शन सदैव श्रद्धालुओं को टुकड़ों में कराए जाते हैं। बांके बिहारी जी के आगे बार-बार पर्दा डाला जाता है। इसकी वजह यह है कि श्रद्धालु बांके बिहारी जी को अधिक देर तक देख न सकें। तो आइये जानते है इस अद्भुत रहस्य के बारे में.

क्यों गिराया जाता है पर्दा

मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि अगर कोई भक्त दिल और मनोभाव से बांके बिहारी की आंखों में नजरे मिलाकर देखते है तो भक्त पर प्रसन्न हो कर बांके बिहारी उनके पीछे-पीछे चल देते हैं. और बांके बिहारी के प्रेम में मोहित हो जाते है।

बार-बार पर्दा लगाने की प्रथा

पौराणिक कथाओं में बताया है कि 400 साल पहले तक बांके बिहारी के मंदिर में पर्दा डालने की कोई परंपरा नहीं थी. उस समय श्रद्धालु जितनी देर चाहते थे उतनी देर तक बांके बिहारी को निहारते रहते थे, और आसानी से कृष्णलला के दर्शन कर सकते थे. एक बार साधक श्रद्धालु बांके बिहारी के दर्शन को मंदिर आए. तब वह लम्बे समय तक प्रेम से मन लगाकर बांके बिहारी के दर्शन करने लगे.

यह भी पढ़े:-पीले दांतो से अब नहीं होना पड़ेगा शर्मिंदा, इन घरेलु नुस्खे से मिनटों में चमकने लगेंगे आपके दांत

ऐसे में भगवान श्री कृष्ण उनके प्रेम से खुश हो गए और उनके साथ ही चल दिए थे. फिर जब मंदिर में बांके बिहारी की मूर्ति न दिखने पर मंदिर के पंडित जी ने श्री कृष्ण से मंदिर में वापस चलने के लिए प्रार्थना व विनती करके वापस मंदिर में लाए. जब से ही बांके बिहारी जी के सामने हर 2 मिनट में पर्दा लगाने की परंपरा शुरू हो गई.

बांके बिहारी से जुड़े अन्य रहस्य

आपको बता दें कि जितनी श्री बांके बिहारी से जुड़ी हुई आस्था है उतने ही उनसे जुड़े हुए कई रहस्य भी हैं जिन्हें बूझ पाना आज भी असंभव है। ऐसा ही एक रहस्य है बांके बिहारी की आंखों से जुड़ा। इनमें से एक है जैसे साल में एक बार एक दिन बांके बिहारी की मंगला आरती होना. साल में एक बार सिर्फ बांके बिहारी के चरणों के दर्शन होना. इसके अलावा साल में एक बार बंसी और मुकुट धारण करना आदि चीजें शामिल हैं. मान्यता है कि बांके बिहारी के समक्ष जो भी साधक अपनी मनोकामना रखते है तो बांके बिहारी जरूर पूरी करते है।

Leave a Comment