खेती-किसानी

Bitter Gourd Farming: करेले की खेती कर किसान हो रहे मालामाल, जानें इसकी खेती का सही तरीका

Bitter Gourd Farming: करेले की खेती कर किसान हो रहे मालामाल, जानें इसकी खेती का सही तरीका, सरकार किसानों को रबी और खरीफ दोनों की फसल में खेती करने को बढ़ावा दे रही है। ऐसे में किसान कई तरह के फलों और सब्जियों की खेती कर रहे है। जिससे उन्हें कई गुना मुनाफा हो रहा है। ऐसे में उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के किसान ने करेले की खेती से काफी लाभ कमाया है। करेले की खेती बहुत से किसानों को अपने प्रति आकर्षित करती है। अगर आप भी करेले की खेती करके मोटा मुनाफा कमाना चाहते है तो आज का यह लेख आपके बहुत काम आने वाला है। पूरे भारत में करेले की खेती की जाती है। तो आइये जानते है करेले की खेती के बारे में पूरी जानकारी।

यह भी पढ़े:-Clove Farming: कम लागत में डबल मुनाफा, इस तरह से करें लौंग की खेती, जानिए इससे जुड़ी आसान टिप्स

करेले की उन्नत किस्म

करेले की जो उन्नत किस्में ज्यादा प्रचलन में हैं उनमें कल्याणपुर बारहमासी, पूसा विशेष, हिसार सलेक्शन, कोयम्बटूर लौंग, अर्का हरित, पूसा हाइब्रिड-2, पूसा औषधि, पूसा दो मौसमी, पंजाब करेला-1, पंजाब-14, सोलन हरा और सोलन सफ़ेद, प्रिया को-1, एस डी यू- 1, कल्याणपुर सोना, पूसा शंकर-1 आदि उन्नत किस्में शामिल हैं।

उपयुक्त मिट्टी

इसकी खेती के लिए अच्छे जल निकास वाली रेतली दोमट मिट्टी, जिसमें जैविक तत्व उच्च मात्रा में होते हैं करेले की खेती के लिए उपयुक्त है। मिट्टी की पी एच 6.5-7.5 करेले की खेती के लिए सबसे अच्छी रहती है।

उत्तम जलवायु

करेले के उत्पादन के लिए जलवायु की बात करें तो गर्म एवं आर्द्र अति उत्तम है। करेले कि बढ़वार के लिए न्यूनतम तापक्रम 20 डिग्री सेंटीग्रेड तथा अधिकतम 35 – 40 डिग्री सेंटीग्रेड होना चाहिए।

यह भी पढ़े:-गर्मियों में करे तरबूज़ की खेती, होंगी लाखो की कमाई, जानिए इसकी खेती के बारे में….

करेले की बुवाई का उचित समय

गर्मी के मौसम की फसल के लिए जनवरी से मार्च तक इसकी बुआई की जा सकती है। मैदानी इलाकों में बारिश के मौसम इसकी बुवाई जून से जुलाई के बीच की जाती है। पहाड़ियों क्षेत्रों में इसकी बुवाई मार्च से जून तक की जाती है।

खाद का प्रयोग

करेले में गंधक युक्त उर्वरक जैसे सिंगल सुपर फास्फेट, अमोनियम सल्फेट, जिप्सम, आदि का उपयोग करें। गंधक की कमी वाले क्षेत्र में 8 किलोग्राम गंधक को प्रति एकड़ गंधक युक्त उर्वरकों के माध्यम से दें।

करेले की खेती से मुनाफा

करेले की फसल पर प्रति एकड़ करीब 30 हजार रुपए की लागत आती है। एक एकड़ में करीब 50 से 60 क्विंटल तक उत्पादन लिया जा सकता है। इस तरह किसान एक एकड़ में इसकी खेती करके करीब 2 से 3 लाख रुपए तक का मुनाफा प्राप्त कर सकता है। इस तरह से किसान करेले की खेती करके मोटी कमाई कर सकते है।

Back to top button