Tuesday, September 27, 2022
Homeदेश की खबरेBusiness News: अब तक का सबसे बड़ा व्यापर घाटा, जुलाई में 31...

Business News: अब तक का सबसे बड़ा व्यापर घाटा, जुलाई में 31 अरब डॉलर रहा व्यापार, जून के मुकाबले 12% घटा निर्यात

Business News: अब तक का सबसे बड़ा व्यापर घाटा, जुलाई में 31 अरब डॉलर रहा व्यापार, जून के मुकाबले 12% घटा निर्यात जुलाई में देश का आयात बढ़कर 66.26 अरब डॉलर हो गया, जबकि पिछले साल इसी महीने में यह 46.15 अरब डॉलर था. इसी बीच, जुलाई में देश का निर्यात पिछले साल की तुलना में लगभग स्थिर 35.24 अरब डॉलर रहा|
भारत का व्यापार घाटा जुलाई में 31.02 अरब डॉलर के नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है. यह आंकड़ा पिछले साल जुलाई महीने के आंकड़े से तीन गुना ज्यादा है. वहीं, जून में भारत का व्यापार घाटा 26.18 अरब डॉलर था, जोकि पिछला उच्चतम रिकॉर्ड था|

वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, जुलाई में देश का आयात बढ़कर 66.26 अरब डॉलर हो गया, जबकि पिछले साल इसी महीने में यह 46.15 अरब डॉलर था. इसी बीच, जुलाई में देश का निर्यात पिछले साल की तुलना में लगभग स्थिर 35.24 अरब डॉलर रहा|

80 से भी नीचे गिर गया था रुपया
वैश्विक स्तर पर जिंसों की ऊंची कीमतों के कारण हाल के महीनों में भारत का व्यापार घाटा तेजी से बढ़ा है. इसने रुपये की विनिमय दर पर दबाव डाला है, जो पिछले कुछ हफ्तों में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अपने सार्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गया है. 19 जुलाई को रुपया, 80 रुपये प्रति-डॉलर के आंकड़े को पार कर गया था|

चार महीनों में 156.41 अरब डॉलर का निर्यात
वित्त वर्ष 2022 में भारत का व्यापारिक निर्यात कुल 429.2 अरब डॉलर रहा. वाणिज्य सचिव बी वी आर सुब्रह्मण्यम ने व्यापारिक आंकड़ों का ब्योरा देते हुए कहा, ‘‘वित्त वर्ष के पहले चार महीनों में 156.41 अरब डॉलर का निर्यात हुआ है| इससे पता चलता है कि हम चालू वित्त वर्ष में 470 अरब डॉलर के निर्यात का आंकड़ा आसानी से हासिल करने की राह पर हैं.’’ आगे उन्होंने कहा, “गेहूं, लोहा, इस्पात और पेट्रोलियम उत्पादों के निर्यात पर प्रतिबंध ने भी निर्यात की वृद्धि पर रोक लगाई है. जून की तुलना में, जुलाई के व्यापारिक निर्यात में 12 प्रतिशत की भारी गिरावट दर्ज की गई है|

भारत का अप्रैल-जुलाई यानी चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में व्यापार घाटा बढ़कर 100.01 अरब डॉलर पर पहुंच गया है, जो वित्त वर्ष 2022 के पहले चार महीनों में दर्ज 42.07 बिलियन डॉलर से अधिक है|