Capsicum Farming: कम समय में शिमला मिर्च की खेती करके किसान कर रहे अच्छी कमाई, जानें इसकी खेती के लिए मौसम और किस्में

Written by Ankita

Published on:

Capsicum Farming : किसानो को फलों और सब्जियों की खेती से अच्छा मुनाफा मिल रहा है। ऐसे में उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के कई किसान शिमला मिर्च की खेती करके अधिक आमदनी प्राप्त कर रहे है। शिमला मिर्च अच्छी पैदावार होने की वजह से इसकी खेती करके अच्छी उपज हो रही है। भारत में शिमला मिर्च की खेती प्रमुख रूप से की जाती है। यदि शिमला मिर्च की खेती सही तरीके से की जाए तो 2 से 3 महीने में अच्छी उपज प्राप्त हो सकती है। यह बेहतर मुनाफा देने वाली खेती है। इसकी खेती किसानों की आय बढ़ाने वाली है। तो आइए जानते है शिमला मिर्च की खेती की खेती के बारे में.

यह भी पढ़े:-IPL 2024 Opening Ceremony: IPL 2024 की ओपनिंग सेरेमनी में रंग जमाते नजर आएंगे एआर रहमान और अक्षय कुमार, देखिए

शिमला मिर्च की खेती के लिए किस्में

वैसे तो शिमला मिर्च की करीब 20-27 प्रजातियां शामिल हैं, जिनमें से पांच की व्यापक रूप से खेती की जाती है: सी. एनुअम, सी. बैकाटम, सी. चिनेंस, सी। मुख्य तौर शिमला मिर्च पर 3 प्रकार की हरी, लाल और पीले रंग की होती हैं। लेकिन खेती के लिए इंद्रा शिमला की किस्म सबसे उच्च मानी जाती है।

खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी

इसकी खेती के लिए सामान्यतः बलुई दोमट मृदा उपयुक्त मानी जाती है। इसमें अधिक मात्रा मे कार्बनिक पदार्थ मौजूद एवं जल निकासी मौजूद होते है। इस मिट्टी में खेती करने से अच्छी उपज प्राप्त होती है।

यह भी पढ़े:-Benefits Of Tulsi Seeds: सेहत के लिए किसी वरदान से कम नहीं है तुलसी के बीज, कई समस्याओं के लिए है कारगर, जानिए 4 कमाल के फायदे

खेती के लिए उत्तम समय

सालभर में शिमला मिर्च की खेती 3 बार की जाती है। शिमला मिर्च एक रबी मौसम की सब्जी है, जिसे जनवरी-फरवरी में खेतों में लगाया जाता है। इसके अलावा नर्सरी में बीज को जून-जुलाई में लगाना चाहिए। मुख्य खेत में जुलाई-अगस्त में पौधों की रोपाई करना चाहिए। आपको बता दें, रोपाई के लगभग 70 से 75 दिन बाद फल आने लगते हैं।

खेती के लिए जलवायु

शिमला मिर्च की खेती के लिए दिन का तापमान 22 से 28 डिग्री सेंटीग्रेड एवं रात्रीकालीन तापमान सामान्यतः 16 से 18 डिग्री सेंटीग्रेड उत्तम रहता है। इसकी फसल ज्यादा गर्मी और सर्दी सहन नहीं कर पाती है। शिमला मिर्च की फसल के लिए नर्म और आद्र जलवायु की आवश्यकता होती है।