धर्म

Chaitra Navratri 2024: कब से शुरू हो रही है चैत्र नवरात्रि, शेर नहीं घोड़े पर सवार होकर आएंगी मां दुर्गा, जानें तिथि और मुहूर्त

Chaitra Navratri 2024: हिन्दू धर्म में नवरात्री पर्व का बहुत खास महत्व रहता है। हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से चैत्र नवरात्रि शुरू हो रही है। ऐसे में इस साल चैत्र नवरात्रि 9 अप्रैल से शुरू होगी। इस नवरात्री में देवी के नौ अलग-अलग रूपों की नौ दिन तक पूजा विधि-विधान से की जाती है। भक्त नौ दिन का उपवास भी रखते है। इस वर्ष प्रतिपदा तिथि 8 अप्रैल की रात्रि को लगभग 11 बजकर 51 मिनट से शुरू हो जाएगी।

यह भी पढ़े:-30 साल बाद हिन्दू नववर्ष पर बन रहा शुभ योग, 3 राशि के जातकों के लिए रहेगा लकी, जानें कौन हैं भाग्यशाली

आपको बता दे मान्यता के अनुसार उदया तिथि का आरम्भ 9 अप्रैल से होगा। ऐसे में नवरात्रि की शुरुआत मंगलवार के दिन से हो रही है। इसलिए माता इस बार घोड़े पर सवार होकर आएंगी। माता का घोड़े पर सवार होकर आना किस तरह के परिवर्तन लेकर आ सकता है आइए जानते हैं चैत्र नवरात्रि का शुभ मुहूर्त और परिवर्तन के बारे में.

Chaitra Navratri 2024 कब से होगी शुरू

हिंदू पंचांग के अनुसार, चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि 08 अप्रैल 2024 की रात को 11 बजकर 50 मिनट से शुरू हो जाएगी। इसका समापन 9 अप्रैल 2024 को रात 08 बजकर 30 मिनट होगा। इस वर्ष उदया तिथि के आधार पर चैत्र नवरात्रि 9 अप्रैल 2024 से शुरू होगी।

यह भी पढ़े:-5G की दुनिया में तबाही मचा रहा है Vivo का धांसू स्मार्टफोन, शानदार कैमरा क़्वालिटी और फीचर्स के साथ देखे कीमत

चैत्र नवरात्रि कलश स्थापना का मुहूर्त

इस साल 09 अप्रैल से चैत्र नवरात्रि शुरू होगी। इस दिन कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त प्रातः 06 बजकर 11 मिनट से 10 बजकर 23 मिनट तक रहेगा। इस दिन अभिजीत मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 03 मिनट से लेकर 12 बजकर 54 मिनट तक रहेगा। ऐसे में आप अभिजीत मुहूर्त में कोई भी शुभ कार्य कर सकते है।

चैत्र नवरात्रि पर घोड़े पर सवार होकर आएंगी देवी दुर्गा

आपको बता दें इस साल चैत्र नवरात्रि 09 अप्रैल यानि कि मंगलवार के दिन से शुरू हो रही है। इसलिए देवी दुर्गा घोड़े पर सवार होकर आएंगी। क्योंकि उनका वाहन घोड़ा है। माता का वाहन नवरत्रि के आरंभ होने वार से तय होता है। नवरात्रि पर देवी पूजन और नौ दिन के व्रत का बहुत महत्व है। इन दिनों में व्रत रखने के कुछ नियम भी होते है। इसके अलावा इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों को उनका पसंदीदा भोग लगाकर मां का आशीर्वाद पाया जा सकता है।

Back to top button