Friday, January 27, 2023
Homeउन्नत खेतीइस साल मिलेंगे कपास को रिकॉर्ड तोड़ रेट, दिन प्रतिदिन महंगा हो...

इस साल मिलेंगे कपास को रिकॉर्ड तोड़ रेट, दिन प्रतिदिन महंगा हो रहा है कपास, देखे कपास की रेट लिस्ट

Cotton New Rate 2022 Year: पिछले साल की तरह इस साल भी मिलेंगे कपास को रिकॉर्ड तोड़ रेट, दिन प्रतिदिन महंगा हो रहा है कपास, देखे कितना होगा रेट। बाजार में कपास की आपूर्ति में कोई वृद्धि नहीं होने के कारण कीमतें अधिक हैं। इसलिए विश्व बाजार में मूल्य स्तर को देखते हुए भारतीय कपास महंगा होता जा रहा है। इसलिए, निर्यात लाभदायक नहीं हैं।

पिछले साल की तरह इस साल भी मिलेंगे कपास को रिकॉर्ड तोड़ रेट

Like last year, this year also cotton will get record breaking rate

3cotton 1

किसानों को उम्मीद है कि इस साल भी पिछले साल की तरह कपास को रिकॉर्ड कीमत (कॉटन रेट) मिलेगी। उन्हें लगता है कि अगले कुछ महीनों में कपास को बढ़ा हुआ रेट (कॉटन मार्केट रेट) मिलेगा। इसलिए उन्होंने कपास पर रोक लगा दी है। किसान भारी मात्रा में कपास का स्टॉक कर रहे हैं। वे चरणबद्ध तरीके से उत्पाद पेश कर रहे हैं। इसलिए, इस साल कपास के उत्पादन में वृद्धि की घोषणा के बावजूद निर्यात ठंडा होता दिख रहा है।

ये भी पढ़े- Petrol-Diesel Price: पेट्रोल-डीजल के दाम में आयी भारी गिरावट, जानिए कितने रूपये हुआ सस्ता, यहाँ देखे नया रेट

जानिए अंतर्राष्ट्रीय बाजार में घटी कपास की मांग

Know the demand for cotton decreased in the international market

cotton seed variety 1024x682 1

बाजार में कपास की आपूर्ति में कोई वृद्धि नहीं होने के कारण कीमतें अधिक हैं। इसलिए विश्व बाजार में मूल्य स्तर को देखते हुए भारतीय कपास महंगा होता जा रहा है। इसलिए, निर्यात लाभदायक नहीं हैं। कपास की नई फसल की कटाई पिछले महीने शुरू हुई थी। लेकिन किसान माल बेचने को तैयार नहीं हैं। कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीएआई) के अध्यक्ष अतुल गनात्रा ने कहा, ‘उन्होंने इस उम्मीद में माल स्टोर किया है कि कपास को पिछले साल की तरह अधिक कीमत मिलेगी।’

ये भी पढ़े- DAP New Rate: मध्यप्रदेश में जारी हुए यूरिया खाद के नए रेट, अब इतने रूपये में मिलेगी खाद की 1 बोरी, देखिये नए रेट की लिस्ट

कपास के प्रोडक्शन में आयी है कुछ महीनो से कमी

There has been a decrease in the production of cotton for the last few months.

Cotton Amravati Mandal 780x470 1

किसानों को पिछले सीजन में रिकॉर्ड कीमत मिली थी। लेकिन इस साल इतनी कीमत मिलने की कोई शर्त नहीं है। गनात्रा ने कहा कि देश में कपास का उत्पादन बढ़ा है और विश्व बाजार में कीमतें घटी हैं। कपास ने जून में सबसे अधिक कीमत प्राप्त की। उस समय विश्व बाजार में भी कीमतें ऊंची थीं। लेकिन अब जून की तुलना में देश में कपास की कीमत में 40 फीसदी की कमी आई है।

कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया का अनुमान है की इस साल कपास का रेट 10,000 से नीचे कपास नहीं होगा

The Cotton Association of India estimates that this year the rate of cotton will not be below 10,000 cotton.

पिछले साल हमने कपास 8,000 रुपये प्रति क्विंटल बेचा था। और फिर कीमत 13,000 रुपये तक बढ़ गई, ”गुजरात के एक किसान बाबूलाल पटेल ने कहा। हालांकि इस साल हम वह गलती नहीं दोहराएंगे। हम 10,000 से नीचे कपास नहीं बेचेंगे,” पटेल ने कहा। कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीएआई) का अनुमान है कि इस साल कपास का उत्पादन अधिक रहेगा। लेकिन बाजार सूत्रों ने कहा कि बाजार को फिलहाल औसत आय का एक तिहाई हिस्सा मिल रहा है।

1500x900 11india not scared if monsanto leaves as gm cotton row escalatesjpg

जानिए इस साल कितना हुआ भारत में उत्पादन

Know how much was produced in India this year

सीएआई ने अनुमान लगाया है कि इस साल भारत में 344 लाख गांठ कपास का उत्पादन होगा। यह उत्पादन पिछले साल के मुकाबले 12 फीसदी ज्यादा है। पिछले साल किसानों ने 10,000 से 15,000 रुपये तक कपास बेचा था। फिलहाल कीमत 9 हजार रुपए है। इसलिए किसान कपास नहीं बेच रहे हैं। लेकिन बाजार विश्लेषकों की राय है कि इस साल कपास में पिछले साल जितनी तेजी आने की संभावना नहीं है। इंडियन कॉटन फेडरेशन के सचिव निशांत अशीर ने कहा कि कपड़ा उद्योग में वैश्विक मंदी के कारण कपास की मांग में कमी आई है। भारत से निर्यात होने वाले कपास का 50% बांग्लादेश जाता है।

इस साल का न्यूनतम रेट 9 हजार रुपये प्रति क्विंटल हो सकता है

This year’s minimum rate can be Rs 9 thousand per quintal

किसानों ने इस साल बड़े पैमाने पर माल का भंडारण किया है। उन्होंने विश्लेषण किया है कि कीमतों में बढ़ोतरी की उम्मीद में वे चरणबद्ध तरीके से बाजार में सामान ला रहे हैं और इसीलिए कीमत पर आमद का दबाव नहीं दिख रहा है। डीलर ने कहा कि जब तक स्थानीय बाजार में कपास की कीमतें नीचे नहीं आतीं या वैश्विक बाजार में कीमतें नहीं बढ़तीं, तब तक निर्यात में तेजी लाना मुश्किल है। वहीं, इस साल कपास का न्यूनतम रेट 9 हजार रुपये प्रति क्विंटल हो सकता है। बाजार विश्लेषकों ने कहा है कि अगर किसान इस कीमत स्तर पर नजर रखकर चरणबद्ध तरीके से माल बेचते हैं तो उन्हें मुनाफा बना रहेगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular