Thursday, March 30, 2023
Homeदेश की खबरेदेश -विदेशElon Musk: टेस्ला के मालिक एलोन मस्क ने किया परमाणु ऊर्जा का...

Elon Musk: टेस्ला के मालिक एलोन मस्क ने किया परमाणु ऊर्जा का समर्थन कहा- इसे बंद करना ठीक नहीं है

Elon Musk: टेस्ला के मालिक एलोन मस्क ने किया परमाणु ऊर्जा का समर्थन कहा- इसे बंद करना ठीक नहीं है

टेस्‍ला और स्‍पेसएक्‍स के सीइओ व दिग्‍गज कारोबारी एलन मस्‍क ने कहा कि वह स्‍वच्‍छ उर्जा के समर्थक हैं और इस नाते वह न्‍यूक्लियर प्‍लांट्स को बंद कराने के खिलाफ हैं। मस्‍क का मानना है कि परमाणु उर्जा भविष्‍य में जीवाश्‍म ईंधन का जगह ले सकती है।

 टेस्‍ला (Tesla) और स्‍पेसएक्‍स (SpaceX) के सीइओ एलन मस्‍क (Elon Musk) ने शनिवार को कुछ पर्यावरणविदों को ‘anti-human’ करार दिया। मुद्दा पर्यावरण उर्जा (Nuclear Power) के उत्‍पादन में वृद्धि से जुड़ा है जो भविष्‍य में जीवाश्‍म ईंधन (Fossil fuels) का जगह ले सकती है।

मस्‍क ने अपने एक ट्वीट में कहा कि दुनिया में परमाणु उर्जा की उत्‍पादकता बढ़ाई जानी चाहिए। इनके उत्‍पादन पर रोक लगाना या कमी लाना पर्यावरण और राष्‍ट्रीय सुरक्षा के दृष्टिकोण से सही नहीं है।

ट्विटर पर मस्‍क के एक फॉलोअर ने कहा कि परमाणु उर्जा स्‍वच्‍छ और प्रभावी है। अगर इसे अपनाया जाए तो यह भविष्‍य में जीवाश्‍म ईंधन की जगह भी ले सकती है। लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है क्‍योंकि तथाकथित पर्यावरणविद स्‍वच्‍छ उर्जा के पक्षकार नहीं है, वे मानव विरोधी हैं। इसके जवाब में मस्‍क ने कहा, सही में कुछ (environmentalists) वाकई में ‘मानव विरोधी’ हैं।

स्‍वच्‍छ उर्जा को लेकर हमेशा मुखर रहने वाले मस्‍क कई दफा कह चुके हैं कि परमाणु उर्जा को गलत ठहराना सही नहीं है, खासकर सोलर और बैटरी जैसे नवीकरणीय ऊर्जा को। इनमें तेजी से विकास हो रहा है। इस साल जुलाई में मस्‍क ने कहा था कि वह परमाणु उर्जा के समर्थक हैं और उन्‍हें ऐसा लगता है कि इसे गलत दृष्टिकोण से देखा जा रहा है। 

उन्‍होंने ‘गेटिंग स्टोन्ड’ पॉडकास्ट पर अपने एक इंटरव्‍यू के दौरान कहा, ‘मेरे ख्‍याल से लोगों को परमाणु ऊर्जा स्टेशन बंद नहीं करने चाहिए। बंद अगर करना भी है तो तभी करे जब स्‍टेशन किसी ऐसे स्‍थान पर हो जहां प्राकृतिक आपदा का खतरा हो।’

मस्‍क ने कहा, ‘दुनिया में सुनामी (Tsunami) जैसी आपदाएं आती रहती हैं तो हमें इस बात का ख्‍याल रखना है। वहां न्‍यूक्लियर प्‍लांट बनाना ही नहीं चाहिए जहां प्राकृतिक आपदा का खतरा हो। लेकिन उदाहरण के तौर पर अमेरिका के कई हिस्‍सों सहित फ्रांस, जर्मनी अनेक ऐसी जगहें हैं जहां प्राकृतिक आपदा का उतना खतरा नहीं है यहां न्‍यक्लियर प्‍लांट होने से उन्‍हें खतरा नहीं है। इन मामलों में हमें इन्‍हें बंद नहीं करना चाहिए। प्‍लांट्स को बंद करना महज बेवकूफी है।’

RELATED ARTICLES

Most Popular