धर्म

Falgun Purnima 2024: कब मनाया जायेगा फाल्गुन पूर्णिमा व्रत? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Falgun Purnima 2024: शास्त्रों के अनुसार फाल्गुन पूर्णिमा पर स्नान-दान का विशेष महत्व है। इस पूर्णिमा तिथि पर श्री हरि विष्णु और चंद्रमा की पूजा-अर्चना करने का विधान है। इस साल फाल्गुन पूर्णिमा 24 या 25 मार्च 2024 को मनाई जाएगी। हर साल फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पर होली भी मनाई जाती है। इस दिन शुभ मुहूर्त पर स्नान-दान करने वाले व्यक्ति को शुभ फल की प्राप्ति होती है साथ ही भगवान विष्णु प्रसन्न होते है। आइए जानते है फाल्गुन पूर्णिमा की तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में.

यह भी पढ़े:-Pradosh Vrat 2024: कल मनाया जायेगा मार्च का अंतिम प्रदोष व्रत, बन रहा है रवि योग, जानें शुभ मुहूर्त और पूजन का समय

फाल्गुन पूर्णिमा तिथि

आपको बता दें, इस साल फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि 24 मार्च 2024 को सुबह 09 बजकर 54 मिनट से शुरू होगी। यह तिथि अगले दिन 25 मार्च 2024 को दोपहर 12 बजकर 29 मिनट पर समाप्त होगी। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, फाल्गुन माह वर्ष का अंतिम महीना होता है। इसके बाद चैत्र का महीना शुरू होता है।

फाल्गुन पूर्णिमा पर शुभ मुहूर्त

  • सत्यनारायण पूजा समय – 24 मार्च को सुबह 09 बजकर 23 मिनट से सुबह 10 बजकर 55 मिनट तक
  • होलिका दहन मुहूर्त – 24 मार्च को रात 11 बजकर 15 मिनट से देर रात 12 बजकर 23 मिनट तक
  • स्नान-दान– 25 मार्च को सुबह 04 बजकर 45 मिनट से सुबह 05 बजकर 32 मिनट तक

यह भी पढ़े:-Vastu Tips For Clock: घर की इस दिशा में लगाएं घड़ी, दूर हो जाएगी आर्थिक तंगी, जानें सही वास्तु नियम

फाल्गुन पूर्णिमा पूजा विधि

  • फाल्गुन पूर्णिमा पर सबसे पहले जल्दी उठकर स्नान कर लें और व्रत का संकल्प लें।
  • इसके बाद भगवान सूर्य को अर्घ दें।
  • अब पूजन के स्थान पर चौकी पर पीला कपड़ा बिछाकर भगवान श्री विष्णु मूर्ति को गंगाजल से स्नान कराएं।
  • उसके बाद पीले चंदन और पीले पुष्प, अबीर, गुलाल, फल आदि चढ़ाकर पूजा करें।
  • साथ में भगवान विष्णु को अबीर और गुलाल भी चढ़ाएं।
  • फाल्गुन पूर्णिमा के दिन सत्यनारायण कथा करनी चाहिए।
  • इस दिन रात में चंद्रमा की पूजा करें।
  • इसके बाद रात के समय देवी लक्ष्मी के समक्ष दीप जलाकर श्री सूक्त का पाठ करें।
  • 25 मार्च को पूर्णिमा पर पवित्र नदी में स्नान कर दान पुण्य करें।
Back to top button