Friday, September 30, 2022
HomeBusiness ideaबैंक ऑफ बड़ौदा ने फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर ब्याज बढ़ा दिया अब...

बैंक ऑफ बड़ौदा ने फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर ब्याज बढ़ा दिया अब FD पर मिलेगा 5.5 % ब्याज जाने और जानकरी !

Fixed Deposit Intrest : बैंक ऑफ बड़ौदा ने फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर ब्याज बढ़ा दिया है. यानी अब आपको FD पर ज्यादा ब्याज मिलेगा. अब FD पर 3.00 से 5.50% तक का ब्याज मिलेगा. नई ब्याज दरें 28 जुलाई से लागू हो गई हैं। इससे पहले 26 जुलाई को कोटक महिंद्रा बैंक ने भी सावधि जमा (एफडी) की ब्याज दरों में वृद्धि की थी।

बैंक ऑफ बड़ौदा में FD पर अब कितना ब्याज

अवधिनई ब्याज दर (%)
7 से 45 दिन3.00
46 से 180 दिन4.00
181 दिन से 1 साल से कम4.65
1 साल5.30
1 साल 1 दिन से 2 साल5.45
2 साल 1 दिन से 10 साल5.50

कोटक महिंद्रा बैंक ने भी बढ़ाई FD की ब्याज दरें
कोटक महिंद्रा बैंक ने भी हाल ही में सावधि जमा (एफडी) की ब्याज दरों में वृद्धि की है। नए बदलाव के बाद अब आपको 1 साल के लिए FD पर 5.60% सालाना ब्याज मिलेगा। नई ब्याज दरें 26 जुलाई से लागू हो गई हैं।

कोटक महिंद्रा बैंक में FD पर अब कितना मिलेगा ब्याज

अवधिब्याज दर (% में)
7 – 30 दिन2.50
31 – 90 दिन3.00
91- 179 दिन3.50
180 – 363 दिन4.75
364 दिन5.25
365 – 389 दिन5.60
390 दिन से 3 साल से कम5.75
3 से 10 साल5.90

FD कराने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

एक ही FD में न डालें सारा पैसा
अगर आप किसी एक बैंक में FD में 10 लाख रुपये निवेश करने की योजना बना रहे हैं, तो इसके बजाय 1 लाख रुपये की 9 FD और 50,000 रुपये की 2 FD एक से अधिक बैंकों में करें। इसी के साथ अगर आपको बीच में पैसों की जरूरत है तो आप बीच में ही FD तोड़कर अपनी जरूरत के हिसाब से पैसों का इंतजाम कर सकते हैं. आपकी बाकी FD सुरक्षित रहेगी.

कितने साल के लिए करनी है FD
फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करने से पहले इसकी अवधि तय करने से पहले अच्छी तरह सोच-विचार कर लेना जरूरी है। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर निवेशक मैच्योरिटी से पहले रकम निकाल लेते हैं तो उन्हें पेनल्टी देनी होगी। FD को मैच्योरिटी से पहले तोड़ने पर 1 फीसदी तक का जुर्माना लगेगा. यह जमा पर अर्जित कुल ब्याज को कम कर सकता है। इसलिए बिना समझे कार्यकाल चुनना आपको मुश्किल में डाल सकता है। ज्यादा ब्याज के लालच में लॉन्ग टर्म FD से बचना चाहिए।

ब्याज की निकासी
पहले बैंक के पास तिमाही और सालाना आधार पर ब्याज निकालने का विकल्प था, अब कुछ बैंक मासिक निकासी भी कर सकते हैं। आप इसे अपनी जरूरत के हिसाब से चुन सकते हैं।