Wednesday, October 5, 2022
HomeHealth tipsमहिलाओं और पुरुष के बाल पतले होने का यह है एक बड़ा...

महिलाओं और पुरुष के बाल पतले होने का यह है एक बड़ा कारण, करे इन उपायों को दिखेंगे घने और सुंदर बाल

Hair Thinning: लंबे,सुंदर और घने बाल किस महिला की चाह नहीं होती? लेकिन हमारी खराब जीवनशैली के कारण यह अब मुश्किल हो गया है। इसी के साथ बालों के झड़ना और पतला होना ऐसी समस्या है जिससे हर दूसरी महिला पीड़ित है। हालांकि हम बाल पतले होने के कारणों पर कभी गौर नहीं करते। 

अगर आपसे पूछा जाए कि आपके बाल पतले होने का सही कारण क्या है, तो आप भी शायद न बता पाएं। वैसे पूरे दिन में हमारे सिर से लगभग 100 बाल टूटकर गिरते ही हैं। यह प्रक्रिया एकदम आम होती है। लेकिन अगर बाल इससे ज्यादा टूट रहे हैं तो आपको अपने डर्मेटोलॉजिस्ट से सलाह लेनी चाहिए। 

बोर्ड सर्टिफाइड डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. जयश्री शरद ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर कुछ समय पहले एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें उन्होंने हेयर थिनिंग के कारण और उनके ट्रीटमेंट के बारे में बताए थे। उन्होंने बताया था, ‘हेयर थिनिंग को आप तभी ट्रीट कर सकते हैं जब इसका कारण पता हो। यह कई सारी कमियों के कारण हो सकता है।’ इन्हीं कारणों के बारे में आइए आपको बताएं। साथ ही जानें ऐसे घरेलू उपाय जिनसे आप इनसे निपटने में थोड़ी राहत पा सकते हैं। 

किन कारणों से होती है हेयर थिनिंग?

बाल पतले होने के कई सारे कारण हैं, इसमें मेनोपॉज, स्टाइलिंग टूल्स का इस्तेमाल,स्ट्रेस, गंभीर बीमारियां आदि प्रमुख कारण हैं। 

मेनोपॉज है कारण

मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को बालों के झड़ने का अनुभव हो सकता है क्योंकि हार्मोन एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन कम हो जाता है। इन परिवर्तनों से मासिक धर्म चक्र की अनियमितता, शुष्क त्वचा, रात को पसीना, वजन बढ़ना और प्राइवेट एरिया का सूखापन जैसे लक्षण भी होते हैं। इसी तरह शरीर पर यह अतिरिक्त तनाव बालों के झड़ने को भी खराब कर सकता है।

स्ट्रेस है एक कारण

अगर आप भावनात्मक या शारीरिक तनाव में हैं, तो भी बाल पतले होते हैं और झड़ने लगते हैं। इससे बाल झड़ सकते हैं। हाई स्ट्रेस लेवल के चलते भी बालों झड़ने की समस्या उत्पन्न होती है, जिसे ‘टेलोजन एफ्लुवियम’ कहते हैं। इसमें स्ट्रेस हेयर फॉलिकल्स की बड़ी संख्या को धकेलकर रेस्टिंग फेज में डालता है। इससे प्रभावित बाल धीरे-धीरे गिरने लगते हैं। 

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस)

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) से पीड़ित महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन होता है जो सामान्य से अधिक एण्ड्रोजन का स्तर बनाता है। इससे अक्सर चेहरे और शरीर पर बाल उग आते हैं, जबकि सिर पर बाल पतले हो जाते हैं। पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम से ओव्यूलेशन की समस्या, मुंहासे और वजन भी बढ़ सकता है।

जेनेटिक्स भी है कारण

जब हम जेनेटिकली बालों के झड़ने के बारे में सोचते हैं, तो आमतौर पर सीधे मेल पैटर्न गंजेपन पर बात करते हैं। लेकिन सभी जेंडर के लोग वंशानुगत बालों के झड़ने के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं। महिलाओं में बालों का झड़ना आमतौर पर क्राउन पर केंद्रित होता है। अगर इस कारण से बाल झड़ रहे हैं तो उससे निपटना मुश्किल होता है। इसके लिए कई तरह के ट्रीटमेंट्स होते हैं जो आपको आपका डॉक्टर ही बता सकता है। 

पतले बालों के लिए घरेलू उपाय

बाल पतले होते हैं तो फिर खूब झड़ने लगते हैं। शुरुआती समस्या में आप घरेलू नुस्खों से इससे निपट सकते हैं और बालों का झड़ना काफी कम हो सकता है। आइए ऐसे कुछ तरीके जानें जिनकी मदद से आप बालों का झड़ना कम कर सकती हैं। 

नारियल तेल से मसाज करें

शायद घने बाल पाने की कोशिश करने का सबसे अच्छा तरीका है स्कैल्प मसाज है। आप नारियल के गुनगुने तेल को लेकर अपने स्कैल्प की मालिश कर सकती हैं। यह रक्त प्रवाह को सुधारने के साथ बालों के विकास पर भी काम करता है। नहाने के दौरान भी स्कैल्प को हल्के हाथों से मसाज दी जा सकती है। 

एग मास्क लगाएं

बालों के विकास और थिकनेस के लिए अंडे के मास्क का उपयोग करने से आपकी जड़ों को पोषण मिलता है और बालों का झड़ना रुकता है। अंडे में मौजूद पोषक तत्व स्कैल्प को ऊर्जा और पोषण देकर बालों की जड़ों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसके लिए एक कटोरी में 1 अंडा और 1 चम्मच एलोवेरा डालें और साथ में गुनगुना ऑलिव ऑयल डालकर मिक्स करें। इस मास्क को जड़ों से बालों के एंड तक लगाकर 30 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर बालों को धो लें। 

दही मास्क लगाएं

दही में सक्रिय जीवाणु एंजाइम होते हैं जो बालों को मॉइश्चराइज करने के साथ नेचुरल ऑयल्स को लॉक करते हैं। दही से हेयर फॉलिकल की ग्रोथ में भी मदद होती है। एक कटोरी में 2 चम्मच दही, 1 चम्मच शहद, 1 चम्मच एलोवेरा और ऑलिव ऑयल डालकर उसे मिक्स कर लें। इसे स्कैल्प पर लगाकर 5 मिनट मसाज करें और फिर 25 मिनट लगाकर छोड़ दें। उसके बाद बालों को माइल्ड शैंपू से धो दें। 

जरूरी न्यूट्रिएंट्स की कमी के कारण बालों का पतला होना और झड़ना भी आम है। अगर आपके शरीर में आयरन, फॉलिक एसिड आदि जैसे विटामिन्स की कमी होती है तो आपका डॉक्टर आपको मल्टी विटामिन्स भी सजेस्ट करते हैं। 

नोट: अगर आपकी हेयर थिनिंग की समस्या गंभीर है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें बिना उनसे पूछे न लगाएं और ग्रामीण मीडिया किसी तरह के घरेलू उपाय को बढ़ावा नहीं देता।