Sunday, September 25, 2022
HomeHealth tipsHealth Tips: पानी में डूबते व्यक्ति को बचाने के लिए अपनाये ये...

Health Tips: पानी में डूबते व्यक्ति को बचाने के लिए अपनाये ये प्राथमिक उपचार, जिससे फेफड़ो में नहीं जायेगा पानी

Health Tips: पानी में डूबते व्यक्ति को बचाने के लिए अपनाये ये प्राथमिक उपचार, जिससे फेफड़ो में नहीं जायेगा पानी बरसाती मौसम में अक्सर नदी, नालों में बहुत पानी आता है, जिसके कारण बहुत से लोग डूब जाते हैं। इसके अलावा कई बार तैराकी की ट्रेनिंग लेकर भी तालाबों में उतर जाते हैं। ऐसे लोगों के भी डूबने की संंभावना ज्यादा होती है।

 खासकर वह व्यक्ति जिसे सांस फूलने की बीमारी है उसे तैरने से बचना चाहिए। डूबने से फैफड़ों में पानी भर जाता है। जिसके बाद फेफड़े काम करना बंद कर देते हैं। यही फेफड़े का पानी रक्त नालिकाओं में भी चला जाता है। आपको कुछ ऐसे प्राथमिक उपचार बताते हैं जिनके जरिए आप पानी में डूबने से बच सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में… 

किसी से लें मदद
यदि आप किसी पानी में डूब रहे हैं तो किसी से मदद लेने का प्रयास करें। अगर आपके आस-पास कोई भी नहीं हैं तो आप इमरजेंसी नम्बर पर कॉल भी कर सकते हैं। अगर आप अकेले हैं आस-पास कोई आदमी नहीं है तो आप रस्सी-लकड़ी की मदद से बाहर निकलने का प्रयास करें।

पीड़ित के कपड़े कर दें ढीले
डूबते व्यक्ति के कपड़े तुरंत ढीले कर दें। इसके बाद उसकी ठोढ़ी को ऊपर उठाकर सिर को पीछे की ओर झुकाएं। ऐसा करने से फेफड़ों का वायुमार्ग आसान होता है।

नाक बंद करके मुंह पूरा खोल दें
आप डूबते हुए व्यक्ति को नाक बंद कर दें और मुंह पूरी तरीके से खोल दें। इसके बाद अपना मुंह ढक्कन के जैसे उसके मुंह में फिट करके पूरी हवा रोगी के मुंह में डालें। आप यही तरीका हर 5 सैकेंड बाद अपनाएं। ऐसा तब तक करें जब तक रोगी की नाड़ी और धड़कन अच्छे से काम करना शुरु न कर दे।

सांस देने का प्रयास करें
आप पीड़ित व्यक्ति को तबतक सांस देने का प्रयास करें जब तक आपको यह न लगे कि उसकी नाड़ी चल रही है। रोगी के मुंह से पानी निकालने के लिए आप उसकी गर्दन टेढ़ी कर पानी निकालें। फिर उसे सांस देने का प्रयास करें।

बाहर निकालने के बाद चेक करें पल्स
जब भी आप पीड़ित व्यक्ति को पानी से बाहर निकाल लें तो उसके मुंह के पास अपना कान रखकर महसूस करें कि उसकी सांसें चल रही है। इसके बाद उसकी पल्स चेक करें। फिर सीने पर कान रखकर उसकी धड़कन भी देख लें।

पंपिंग करें
यदि व्यक्ति की पल्स नहीं चल रही तो आप हथेली से दबाव डालकर अच्छे से पंपिंग करें। यदि पीड़ित बच्चा है तो उसके लिए दो उंगलियों का प्रेशर काफी है। परंतु व्यक्ति के लिए आप 2 इंच तक पंपिंग करें। पसलियोंपर प्रेशर बिल्कुल भी न दें।