हिन्दू धर्म में व्रत को क्यों दिया जाता है विशेष महत्व, जानिए व्रत रखने के नियम

Written by Ankita

Published on:

Significance of Fasting : हिन्दू धर्म में व्रत को क्यों दिया जाता है विशेष महत्व, जानिए व्रत रखने के नियम, हिंदू धर्म में हर एक पर्व पर व्रत का विशेष महत्व होता है और उसे रखने के अलग-अलग नियम होते है. व्रत के नियमों का अगर पालन सही तरीके से न किया जाए तो व्यक्ति को व्रत का शुभ फल प्राप्त नहीं होता है. मनुष्य जीवन को सफल बनाने में व्रत की अपार महिमा बताई गई है. व्रत को धारण करने के लिए विशेष नियम होते हैं जिसका पालन करना बहुत जरूरी होता है. आइये जानते है व्रत को क्यों दिया जाता है विशेष महत्व?

यह भी पढ़े:-छत पर करें बागवानी और सरकार दे रही 50 फीसदी सब्सिडी, जानिए ऐसे करें ऑनलाइन अप्लाई

हिन्दू धर्म मे व्रत

सनातन धर्म के मनुष्य ऋषि मुनियों के बताये ज्ञान को मानते है इस कारण से हर महीने व्रत उपवास किए जाते हैं, ताकि मनुष्य सत्य के मार्ग पर चलें और झूट व पाप कर्मों से दूर रहे. व्रत रखने से व्यक्ति को मानसिक शांति, भगवान के नजदीक रहने के शक्ति और सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है. साथ ही में महर्षियों ने मनुष्य को व्रत करने के लिए कुछ नियम भी बनाए हैं. जिनका पालन करने पर ही व्रत का पूरा फल व्यक्ति को प्राप्त होता है.

व्रत रखने के नियम

1- व्रत रखने वालों को साफ कपड़े पहनने चाहिए व्रत का संकल्प लेने वाले व्यक्ति को व्रत के दिन सुबह जल्दी से उठकर दैनिक क्रियाओं को करते हुए स्नान करना चाहिए उसके बाद साफ वस्त्र धारण करना चाहिए.

2- व्रत पर संबंधित देवी-देवता की करें पूजा जिस विशेष दिन पर व्रत रखें उस दिन उससे संबंध रखने वाले देवी-देवता की पूजा आराधना जरूर करनी चाहिए.

3- व्रत के दिन न सोएं जिस दिन विशेष पर व्रत रखने का संकल्प आपने लिया हुआ उस दिन व्रती को दिन के समय नहीं सोना चाहिए.

4- व्रत के दिन बार-बार खाने से बचें व्रती को व्रत के दिन बार-बार खाने से बचना चाहिए. व्रत पर अन्न का त्याग करना चाहिए और केवल जल और फलाहार ही ग्रहण करें. इस व्रत पूर्ण माना जाता है.

यह भी पढ़े:-जंगली पेड़ों के फूल-पत्ती में छुपा औषधीय गुण, जड़ी-बूटियों से मिलेगी कई बीमारियों में राहत, आइये जाने

5- व्रत के दिन झूठ और गलत आदत से बचें व्रत रखने पर व्यक्ति को हमेशा सत्य ही बोलना चाहिए. किसी को बेवजह परेशान नहीं करना चाहिए. इसके अलावा व्रत पर चोरी आदि नहीं करनी चाहिए. व्रती को व्रत रखने के दौरान किसी सी निंदा या बुराई नहीं करनी चाहिए.

6- दान करना शुभ व्रत वाले दिन व्रती को गरीबों को दान अवश्य करना चाहिए और असहायों की हमेशा मदद करें. व्रत के दिन भगवान के मंत्रों का दिनभर जाप करते रहना चाहिए.

7- व्रत के बाद सात्विक भोजन ही करें व्यक्ति को व्रत की समाप्ति के बाद हमेशा सात्विक भोजन ही ग्रहण करना चाहिए. साथ ही व्रत के बाद हल्का ही भोजन ग्रहण करना चाहिए.

Leave a Comment