Friday, September 30, 2022
Homeदेश की खबरे31 अक्टूवर तक इनकम टेक्स रिटर्न फाइल कर सकते है नहीं लगेगा...

31 अक्टूवर तक इनकम टेक्स रिटर्न फाइल कर सकते है नहीं लगेगा कोई जुर्माना

Income Tax Return : देश में लोगों को साल में एक बार इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना होता है. जिन लोगों की आय कर योग्य है, उनके लिए आईटीआर फाइल करना बहुत जरूरी हो जाता है।

हर साल लोगों को इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना होता है। इस प्रक्रिया के लिए सरकार द्वारा लोगों को समय भी दिया जाता है। साथ ही लोगों को एक निश्चित तारीख भी बता दी जाती है ताकि लोग उस तारीख तक आयकर रिटर्न दाखिल कर दें। हालांकि, कुछ लोग निर्धारित तिथि तक भी अपना आयकर रिटर्न दाखिल नहीं कर पाते हैं, जिसके बाद उन्हें जुर्माना भरना पड़ता है। यह जुर्माना आयकर रिटर्न (ITR) विलंब शुल्क के रूप में एकत्र किया जाता है।

जुर्माना महसूस करो

वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए आयकर रिटर्न (ITR) दाखिल करने की अंतिम तिथि रविवार 31 जुलाई 2022 थी। इसका मतलब यह है कि जिन करदाताओं के खातों का ऑडिट करने की आवश्यकता नहीं है, उन्हें इस तिथि तक आयकर रिटर्न दाखिल करना आवश्यक था। जिन व्यक्तिगत आयकर दाताओं ने 31 जुलाई तक आईटीआर दाखिल नहीं किया है, अगर उनकी आय कर योग्य है, तो उन्हें 5000 रुपये का जुर्माना देना होगा।

31 अक्टूबर ये लोग फाइल कर सकते हैं

वेतनभोगी व्यक्तियों को 31 जुलाई तक अपना आयकर रिटर्न दाखिल करने की आवश्यकता होती है, जबकि कॉर्पोरेट या जिन्हें अपने खातों का ऑडिट कराने की आवश्यकता होती है, वे आकलन वर्ष के 31 अक्टूबर तक अपना रिटर्न दाखिल कर सकते हैं। ऐसे में इन लोगों को 31 अक्टूबर तक आईटीआर रिटर्न दाखिल करने पर किसी तरह की पेनाल्टी नहीं लगेगी।

आखिरी दिन इतने रिटर्न दाखिल

वहीं, व्यक्तिगत आयकर दाताओं के लिए वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए आयकर रिटर्न (आईटीआर) जमा करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई थी। अंतिम दिन रविवार रात 10 बजे तक 63.47 लाख से अधिक रिटर्न दाखिल किए जा चुके थे। आयकर विभाग ने आईटीआर जमा करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई तय की है।

लगातार अनुरोध कर रहा था

विलंब शुल्क के बोझ से बचने के लिए विभाग लगातार करदाताओं से निर्धारित समय के भीतर रिटर्न जमा करने का अनुरोध कर रहा है। इससे पहले 30 जुलाई तक 5.10 करोड़ से ज्यादा रिटर्न दाखिल किए जा चुके थे। रविवार को आईटीआर दाखिल करने के साथ ही वित्त वर्ष 2021-22 के लिए आयकर रिटर्न की कुल संख्या 5.73 करोड़ को पार कर गई है।