Friday, September 30, 2022
Homeदेश की खबरेKanpur News : 800 करोड़ रुपए लगाकर भी गंगा नहीं हुई साफ...

Kanpur News : 800 करोड़ रुपए लगाकर भी गंगा नहीं हुई साफ आज आएगी स्वच्छ गंगा मिशन की टीम…

Kanpur News : पानी में ऑक्सीजन की कमी बढ़ती जा रही है। इससे साफ है कि चर्मकार और सीवरेज का कचरा नालों के जरिए सीधे गंगा में डाला जा रहा है. शुरुआत में गंगा नदी के लिए लाइलाज बन चुके सीसामऊ नाले को केंद्र सरकार की सक्रियता से बंद कर दिया गया था, लेकिन अभी भी करीब सात ऐसे नाले हैं, जिनका दोहन नहीं हुआ है|

गंगा को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए पिछले सात वर्षों में कानपुर में 800 करोड़ से अधिक खर्च किए गए हैं, लेकिन फिर भी प्रदूषण की स्थिति बहुत खतरनाक बनी हुई है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की जुलाई की रिपोर्ट के मुताबिक गंगा में कई जगहों खासकर जाजमऊ क्षेत्र में गंगा के पानी में बीओडी (बायो डिसॉल्व्ड ऑक्सीजन) निर्धारित मात्रा से डेढ़ गुना ज्यादा है|

यानी पानी के अंदर ऑक्सीजन की कमी बढ़ती जा रही है। इससे साफ है कि चर्मकार और सीवरेज का कचरा नालों के जरिए सीधे गंगा में डाला जा रहा है. शुरुआत में गंगा नदी के लिए लाइलाज बन चुके सीसामऊ नाले को केंद्र सरकार की सक्रियता से बंद कर दिया गया था, लेकिन अभी भी करीब सात ऐसे नाले हैं, जिनका दोहन नहीं हुआ है|

दूसरा कारण यह है कि गंगा में टेनरियों और नालों के प्रदूषित पानी को रोकने के लिए लगाया गया ट्रीटमेंट प्लांट ठीक से काम नहीं कर रहा है. यही वजह है कि गंगा में प्रदूषण कम होने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है। बोर्ड की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक इस समय गंगा में बीओडी की मात्रा में मई और जुलाई के बीच कोई खास अंतर नहीं आया है|


यानी पिछले कई महीनों से गंगा में प्रदूषण की स्थिति बनी हुई है. ऑक्सीजन की कमी से जलीय जंतुओं के लिए पानी के नीचे सांस लेना मुश्किल हो जाता है। ऐसा तब है जब इस समय बारिश के कारण गंगा में पानी की मात्रा बढ़ गई है। पानी कम होगा तो प्रदूषण और भी ज्यादा सामने आ सकता है।

आज आएगी स्वच्छ गंगा मिशन की टीम
राज्य स्वच्छ गंगा मिशन की छह सदस्यीय टीम 30 जुलाई को लखनऊ से महानगर में गंगा में प्रदूषण के साथ-साथ चर्मशोधन और शोधन संयंत्रों की स्थिति का जायजा लेने आएगी. टीम दिन में रात 11 बजे से अलग-अलग जगहों पर जाएगी। जिसमें ट्रीटमेंट प्लांट संचालित करने वाली एजेंसी से भी पूछताछ की जाएगी।


आंकड़ा
सामान्य बीओडी की मात्रा 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम होनी चाहिए
5.2 मिली बीओडी राशि प्रति लीटर मिली

अब गंगा में प्रदूषण को लेकर किया गया
57 करोड़ की लागत से सीसामऊ समेत 10 नालों का किया गया दोहन|
बिंगवां में 150 करोड़ से 210 एमएलडी का प्लांट लगाया|
सजरी में 28 करोड़ की लागत से बनाया गया 42 एमएलडी का एक और प्लांट|
370 करोड़ से गंगा तट पर बिछाई नई सीवर लाइन|
चर्मशोधन कारखानों के लिए 450 करोड़ रुपये के निवेश से एक नया उपचार संयंत्र बनाया जा रहा है।