खेती-किसानी

Madhumalti Plant: इस तरीके से लगाएं मधुमालती का पौधा, खुशबूदार फूलों से महकेगा घर, जानें आसान सीक्रेट

Madhumalti Plant: इस तरीके से लगाएं मधुमालती का पौधा, खुशबूदार फूलों से महकेगा घर, जानें आसान सीक्रेट, बगीचे की सुंदरता बढ़ाने के लिए लिए हम घर में कई तरह के पेड़-पौधे लगाते है। ऐसे में खुशबूदार पौधों में मधुमालती का पौधा भी आता है इसके फूलों से घर में खुशनुमा बना रहता है। इसके न सिर्फ फूल सूंदर होते है बल्कि इसका पौधा देखने में बहुत सूंदर लगता है। लेकिन ये पौधा जितनी जल्दी से बढ़ता है उतनी जल्दी से मुरझा भी जाता है। इससे फूलों की संख्या भी कम हो जाती है। इसलिए आपको इस पौधे की देखभाल करना होता है। आइए जानते है मधुमालती के पौधे के बारे में.

यह भी पढ़े:-Amla Juice Benefits: रोज़ाना सुबह इस फल की ड्रिंक का करें सेवन, बॉडी में जमा फैट होगा जल्द गायब

आपको बता दे इस पौधे में पुरे साल फूल लगते है। मधुमालती का पौधा बड़ा होने पर आसपास सहारा पकड़कर तेजी से ऊपर बढ़ता है और कुछ ही दिनों में फैलकर छा जाता है। गर्मियों में यह घनी छाया देते हैं और घर को कड़ी धूप से भी बचाते हैं। इसमें सफ़ेद रंग के छोटे फल भी लगते हैं जो बाद में भूरे रंग के हो जाते हैं। सर्दियों में यह डोरमेंसी में चला जाता है और पत्तियां सूखने लगती है लेकिन मार्च का महीना स्टार्ट होने पर नई पत्तियां फिर से आने लगती है जैसे-जैसे गर्मियां आती जाती है वैसे ही जाएंगे फूल भी आने लगते हैं।

ऐसा होता है मधुमालती बेल का पौधा

अगर आप मधुमालती का पौधा गमले में लगाते है तो इसकी ग्रोथ कम बढ़ती है। लेकिन यदि यह पौधा जमीन पर लगा है तो इसकी ऊंचाई 25 से 30 फीट तक जाती है। इसमें लाल, गुलाबी, सफ़ेद रंग के गुच्छों में फूल खिलते हैं। देखने में यह फूल बहुत सूंदर लगते है इससे घर-आंगन में बढ़िया खुशबू महकाती है। इसका पौधा आसानी से लग जाता है।

मधुमालती के फूल

इसके फूल की एक खासियत बात ये फूल रंग बदलते हैं। पहले दिन सूर्योदय जब इसके फूल खिलते हैं तो ये सफ़ेद रंग के होते हैं। दूसरे दिन वही फूल गुलाबी रंग में बदल जाते हैं और तीसरे दिन गाढ़े लाल रंग में। फूलों का यह रंग बदलना ज्यादा से ज्यादा परागण के लिए विभिन्न प्रकार के कीटों को अपनी ओर आकर्षित करते है। वैसे तो गर्मियों के मौसम में बहुत से पौधे फूल नहीं देते, मगर ये बेल फूलों से भरी होती है।

यह भी पढ़े:-Ajwain Leaves: कई बीमारियों के लिए रामबाण इलाज है अजवाइन की पत्ती, जानिए कैसे करें इसका सेवन?

मधुमालती का पौधा कैसे लगाएं?

इस पौधे को आप बहुत आसनी से मिट्टी में लगा सकते है। अगर आप नया पौधा लगा रहे है तो इसके लिए आपको कलम लगाना होगा। इसके लिए आप 3-4 इंच लम्बी कलम लें। जिसमे 2-3 पत्तियाँ हों। इस कलम का 1 इंच हिस्सा मिट्टी में दबा दें। इसे थोड़ी छाया वाली जगह रखें या फिर इसके ऊपर एक पॉलिथीन बैग लगा दें। यह किसी भी तरह की मिट्टी में लग जाता है। बस आपको ध्यान रखना है कि मिट्टी में थोड़ी नमी हो लेकिन पानी रुकना नहीं चाहिए।

इसके अलावा इस पौधे में दिन में 2 बार थोड़ा पानी देते रहें। ऐसा करने से 1 महीने में इसकी जड़ें निकल आयेंगी और नयी पत्ती निकलती भी दिखाई देगी। इस पौधे के लिए गोबर या सूखे पत्तियों की बनी खाद परफेक्ट है। इस तरह से लगाने से मधुमालती बेल में तेजी से ग्रोथ बढ़ती है और जल्दी ही फूल लगाना भी शुरू हो जाता है।

Back to top button