धर्म

Mahashivrartri 2024: आखिर क्यों जागना चाहिए महाशिवरात्रि की रात? जानिए रात्रि जागरण का वैज्ञानिक कारण

Mahashivrartri 2024: आखिर क्यों जागना चाहिए महाशिवरात्रि की रात? जानिए रात्रि जागरण का वैज्ञानिक कारण, हर महीने शिवरात्रि अमावस्या से एक दिन पहले आती है। ऐसे में फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को महाशिवरात्रि मनाई जा रही है। इस बार महाशिवरात्रि 8 मार्च 2024 को है। इस दिन भगवान शंकर और माता पार्वती का विवाह हुआ था। सनातन धर्म में महाशिवरात्रि का विशेष महत्व बताया गया है। इस दिन शिव भक्त पूरी श्रद्धा भक्ति से शिव मंदिर जाते है और विधि-विधान से पूजा करते है। ऐसी मान्यता है इस दिन व्रत रखने से और रात जागरण करने से शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। तो आइये जानते है महाशिवरात्रि को रात्रि जागरण के महत्व के बारे में.

यह भी पढ़े:-Benefits Of Bottle Gourd: कई बीमारियों का ईलाज है लौकी का चोखा, रोजाना करें डाइट में शामिल, मिलेंगे 4 गजब के फायदे

जानें महाशिवरात्रि पर रात में जागने का महत्व

मान्यता अनुसार इस रात को शिवलिंग में महादेव वास करते हैं ऐसे में जो सच्चे मन से शिव का स्मरण करता है वह शिव को प्रसन्न कर लेता है। इसलिए महाशिवरात्रि की रात में जागकर शिवजी और माता पार्वती की आराधना करनी चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन के सारे कष्ट भी दूर हो जाते हैं और सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

  • मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन रात्रि जागरण करने से मन शांत रहता है और भगवान शिव प्रसन्न होते है।
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसरा महाशिवरात्रि की रात ऊर्जा और ज्ञान से भरपूर मानी जाती है इस दिन व्यक्ति के अंदर अलग ही ऊर्जा और ज्ञान का विकास होता है।
  • महाशिवरात्रि की रात रहस्यमय और महान होती है इसलिए रात में जागकर ध्यान लगाने से ऊर्जा का संचार होता है।
  • महाशिवरात्रि के दिन ध्यान लगाने से ये नकारात्मक विचारों और भावनाओं को परिवर्तित कर देता है और मन पवित्र हो जाता है।
  • धार्मिक शास्त्रों के अनुसार महाशिवरात्रि की रात में जागरण करते हुए रीढ की हड्डी को सीधा करके बैठना चाहिए और रात भर ध्यान करना चाहिए।
  • मान्यता अनुसार इस रात को शिवलिंग में महादेव वास करते हैं ऐसे में जो सच्चे मन से शिव का स्मरण करता है उसकी हर मनोकामना पूरी होती है।

यह भी पढ़े:-Bangles: सुहागिन महिलाओं का श्रृंगार है चूड़ियाँ, जानिए सीप की चूड़ी पहनने से हो सकते हैं ये लाभ

रात में जागने का वैज्ञानिक कारण

महाशिवरात्रि की रात में ब्रह्माण्ड में ग्रह और नक्षत्रों की ऐसी स्थिति बनती है जिससे एक खास ऊर्जा का प्रवाह उपर की ओर होता है। इसलिए इस रात को सोना नहीं चाहिए। इस दिन रात के समय ध्यान लगाकर रीढ की हड्डी सीधी रखकर बैठना चाहिए। इससे आपकी ऊर्जा में विकास होता है। इसलिए महाशिवरात्रि के दिन रात जागने की सलाह दी गई है।

Back to top button