Business

Chilli Farming: मिर्च की खेती से कुछ ही महीनों में होगी लाखो रुपए की कमाई, बस इन बातों का रखें ध्यान

Chilli Farming: मिर्च की खेती से कुछ ही महीनों में होगी लाखो रुपए की कमाई, बस इन बातों का रखें ध्यान, हरी मिर्च हम सभी के घरों में होती है और सब्जी बनाने और सलाद में हम इसका इस्तेमाल करते हैं। लेकिन, अगर हम कहें कि आपको रोजाना साबुत हरी मिर्च खाना चाहिए. हरदोई में ज्यादातर किसान धान, गेहूं और गन्ने की खेती करते हैं, लेकिन इसके अलावा यह कहानी है सिकंदरपुर पट्टी निवासी किसान कमल किशोर की। उन्होंने बताया कि हरदोई से सटा जिला सीतापुर मिर्च उत्पादन में अग्रणी है। इसी को ध्यान में रखते हुए उन्होंने पारंपरिक खेती की जगह मिर्च उत्पादन को व्यवसाय के रूप में चुना है।

यह भी पढ़ें :-Iphone का मार्केट खराब करने आया Oneplus का 5G स्मार्टफोन, अमेजिंग कैमरा क़्वालिटी और फीचर्स के साथ देखिए कीमत

हम आपको बता दे की भारत में मसालों में मिर्च का विशेष महत्व है। उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, कर्नाटक और ओडिशा समेत कई राज्यों में मिर्च की अच्छी पैदावार होती है, जिससे किसान लाखों का मुनाफा कमाते हैं. यहां की मिट्टी मिर्च की खेती के लिए उपजाऊ है और जल निकास भी अच्छा है, इसीलिए इन क्षेत्रों में मिर्च की अच्छी पैदावार होती है। इसी सोच के तहत उन्होंने हरदोई जाकर कृषि विभाग और उद्यान विभाग से जानकारी ली, जहां उन्हें मिर्च की खेती के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई।

एक एकड़ में 35 क्विंटल तक उत्पादन

हरी मिर्च एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसके बिना ज्यादातर भोजन अधूरा सा लगता है और अगर भारतीय रेसेपीज की बात करें तो हरी मिर्च को बिल्कुल भी नजरअंदाज़ नहीं किया जा सकता है. शुरुआत में उन्होंने पूसा सदाबहार मिर्च के बीज की खेती की, जिससे 9 से 10 सेमी लंबे और बेहद कड़वे मिर्च के फल प्राप्त हुए। प्रति एकड़ लगभग 35 क्विंटल हरी मिर्च प्राप्त हुई और उसे सुखाने के बाद लगभग 7 से 8 क्विंटल सूखी मिर्च प्राप्त हुई। वह कई सालों से ऐसा कर रहे हैं. वह समय-समय पर उद्यान विभाग से कीटों से बचाव, उत्तम बीजों के चयन, खरपतवार नियंत्रण और उर्वरक के संबंध में जानकारी लेते रहते हैं। इसके अलावा वह समय-समय पर कृषि विभाग से अपनी मिट्टी के पीएच की जांच भी कराते रहते हैं।

Chilli Farming: मिर्च की खेती से कुछ ही महीनों में होगी लाखो रुपए की कमाई, बस इन बातों का रखें ध्यान

हम आपको बता दे की उन्होंने बताया कि खेत तैयार करने के लिए वह करीब तीन से चार बार जुताई करते हैं. बीज बोने से 20 दिन पहले आवश्यक मात्रा में उर्वरक डाला जाता है. मेड़दार खेत तैयार करने के साथ-साथ 60 सेमी की दूरी पर मेड़ नालियाँ भी तैयार की जाती हैं। बीजों को अंकुरित होने तक पॉलीथीन से ढक दिया जाता है। पौधे निकलने के बाद उन्हें हानिकारक कीड़ों से बचाने के लिए समय-समय पर बाजार में उपलब्ध आवश्यक दवाओं का उपयोग करते रहते हैं। अधिकांश फल छेदक कीट मिर्च की फसल को उस समय नुकसान पहुंचाते हैं जब उस पर फल लगते हैं।

एक हेक्टेयर में 12 लाख रुपये तक की कमाई

हम आपको बता दे की किसान ने बताया कि 70 दिन में तैयार होने वाली फसल की लागत करीब 20 से 30 हजार रुपये आती है, लेकिन प्रति एकड़ करीब 2 लाख रुपये की कमाई हो जाती है. किसान ने बताया कि मिर्च की खेती में उन्होंने 9 से 11 महीने में प्रति हेक्टेयर करीब 12 लाख रुपये का मुनाफा कमाया है.

यह भी पढ़ें :-OnePlus को मिट्टी में मिलाने आया Realme का 5G स्मार्टफोन, HD फोटू क्वालिटी और दमदार बैटरी के साथ देखिए कीमत

मिर्च की खेती से कुछ ही महीनों में होगी लाखो रुपए की कमाई, बस इन बातों का रखें ध्यान, हरदोई के जिला उद्यान अधिकारी सुरेश कुमार ने बताया कि समय-समय पर किसानों को उन्नत बीज और खरपतवार के साथ ही कीटों से बचाव के बारे में जागरूक किया जाता है। जिले में बड़ी संख्या में किसान मिर्च की खेती कर मुनाफा कमा रहे हैं. कई लोग बारी-बारी से साल भर मिर्च की खेती कर रहे हैं। किसानों को समय-समय पर सरकार द्वारा दिए जाने वाले लाभ भी दिए जाते हैं। मिर्च की खेती से किसानों की स्थिति में बदलाव आया है.

Back to top button