Monday, September 26, 2022
Homeदेश की खबरेड्राइवर ने खोली अर्पिता की पोल, सबको अँधेरे में रखकर जाती थी...

ड्राइवर ने खोली अर्पिता की पोल, सबको अँधेरे में रखकर जाती थी पार्थ चटर्जी के घर, जानिए पूरा मामला

News Desk India:ड्राइवर ने खोली अर्पिता की पोल, सबको अँधेरे में रखकर जाती थी पार्थ चटर्जी के घर, पश्चिम बंगाल शिक्षक भर्ती घोटाले में पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अभिनेत्री अर्पिता मुखर्जी के संबंधों को लेकर प्रत्येक दिन नये राज सामने आ रहे हैं. अब अर्पिता मुखर्जी के ड्राइवर प्रणब भट्टाचार्य ने दावा किया कि अर्पिता मुखर्जी कभी भी पार्थ चटर्जी के नाकतला स्थित घर में ही रात को रूक जाती थी. हालांकि अर्पिता मुखर्जी अपनी आवाजाही के बारे में ड्राइवरों को अंधेरे में रखती थी. प्रणब भट्टाचार्य ने कहा कि पार्थ चटर्जी ने अर्पिता मुखर्जी के लिए उन्हें काम पर रखा था. प्रणब भटाचार्य अर्पिता मुखर्जी की होंडा सिटी गाड़ी को चलाते थे।

बता दें कि शिक्षक भर्ती घोटाले में ईडी की छापेमारी के बाद यह रहस्य सामने आया था कि पूर्व मंत्री और अर्पिता मुखर्जी के बीच पिछले 10 सालों से रिश्ते थे। प्रणब भट्टाचार्य ने चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा कि व्हाइट मर्सिडीज और ब्लैक ऑडी पिछले 3-4 महीने से गायब हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें यह जानकारी नहीं हैं कि उनकी ये गाड़ियां कहां गई हैं।

दो दिन रोक रखा था ड्राइवर को

जिस दिन अर्पिता मुखर्जी के टालीगंज स्थित डायमंड सिटी फ्लैट पर छापा मारा गया था. प्रणब को इसकी जानकारी नहीं थी. वह वहां पहुंचे थे और उन्हें दो दिनों अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट में बैठने के लिए मजबूर होना पड़ा था. ईडी ने प्रणब भट्टाचार्य का मोबाइल जब्त कर लिया है और उसे वापस नहीं किया है. प्रणब भट्टाचार्य ने यह भी दावा किया कि अर्पिता अलग-अलग कारों के लिए अलग-अलग ड्राइवर का इस्तेमाल करती थी. प्रणब भट्टाचार्य कल्याण धर को जानते हैं और कहते हैं कि वह एचे एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड का आधिकारिक काम देखते थे. बता दें कि ईडी के अधिकारी इस इंटरनेंट कंपनी के निदेशकों में से एक कल्याण धर की तलाश कर रही है।

अर्पिता को पंहुचा कर वापस आता था ड्राइवर

उन्होंने कहा कि जब भी पार्थ या अर्पिता एक दूसरे के फ्लैट में जाते थे. तो उन लोगों को वहां पहुंचा कर वह वापस आ जाते थे, क्योंकि उन्हें इसी तरह का निर्देश दिया गया था. प्रणब ने यह भी कहा कि अर्पिता के नाम और भी कई कारें थीं, लेकिन उन्हें होंडा सिटी के अलावा कोई कार चलाने की इजाजत नहीं थी. पार्थ और अर्पिता के घर से बड़ी रकम, दस्तावेज, सोने के सिक्के और अन्य कीमती सामान बरामद किये गए हैं. ईडी सूत्रों के मुताबिक दस्तावेज की कॉपी हाल ही में भू राजस्व विभाग को मिली है. ईडी सूत्रों के मुताबिक पार्थ-अर्पणा ने भू-राजस्व विभाग और स्थानीय प्रशासन से ‘जानकारी छुपाई’ थी।