Friday, February 3, 2023
HomeTrendingअपनी ही पत्नी ने पति को लगाया 'किराए' पर, महिला, बोली- महंगाई...

अपनी ही पत्नी ने पति को लगाया ‘किराए’ पर, महिला, बोली- महंगाई बहुत है,जानिए पूरा मामला?

Patni Ne Pati Ko Lagya Kaam Par:पैसों के लिए एक महिला ने अपने पति को ही “किराए” पर देना शुरू कर दिया. ताकि बढ़ती महंगाई से वे लोग मुकाबला कर सकें.इसके लिए महिला ने पहले तो एक वेबसाइट शुरू किया फिर उसके प्रचार के लिए फेसबुक पर एक ऐड-कैंपेन भी चलाया. उन्होंने इसका नाम ‘Hire my handy hubby’ सर्विस दिया है.

मामला ब्रिटेन का है. महिला का नाम है- लौरा. उन्हें यह आइडिया एक पॉडकास्ट सुनकर आया. उस पॉडकास्ट में एक ऐसे शख्स के बारे में बताया जा रहा था कि लोगों के घरों में मामूली काम करके अपनी जीविका चला रहा था. लौरा ने सोचा कि 41 साल के अपने पति जेम्स को भी काम पर लगाया जा सकता है.लौरा का मानना है कि जेम्स बहुत टैलेंटेड हैं और वह कोई भी DIY प्रोजेक्ट को पूरा कर सकते हैं.

लौरा ने कहा कि जेम्स ने बकिंघमशायर में मौजूद उनके घर को ट्रांसफॉर्म कर दिया था. उन्होंने कस्टम बेड्स बनाए थे, इनमें से एक 9 फीट चौड़ा एक फैमिली बेड भी था. जेम्स ने किचेन भी सेट किया था और रद्दी सामानों से एक डाइनिंग टेबल बना दिया था.

लौरा ने कहा- वह घरेलू और गार्डन के कामों में माहिर हैं, इसलिए मैंने सोचा कि क्यों ना इन स्किल्स को यूज किया जाए और उन्हें किराए पर दिया जाए?

image

लौरा ने इसके बाद ‘Rent My Handy Husband’ नाम से एक वेबसाइट लॉन्च कर दिया. उन्होंने फेसबुक और एक पॉपुलर ऐप नेक्स्टडोर के जरिए इसका प्रचार भी करवाया.

इस पर मिले रिस्पांस को देखकर वह चकित रह गईं.

लौरा ने कहा- लोग सच में इंटरेस्टेड थे. कुछ लोगों को लगा कि मैं जेम्स को किसी बिल्कुल ही अलग काम (सेक्शुअल सर्विस वगैरह) पर रखने के लिए कह रही हूं. इतनी महंगाई के बावजूद मैं ऐसा नहीं करने वाली हूं. हालांकि, ज्यादातर लोगों को यह पसंद आ रहा है वे लोग कहते हैं कि कभी-कभी छोटे कामों के लिए बिल्डर को बुलाना मुश्किल होता है क्योंकि वह इसमें इंटरेस्टेड नहीं होते हैं.

लौरा ने बताया- जेम्स कुछ चीजों में माहिर हैं, जैसे कि फ्लैट पैक्स को जोड़ना, ट्रैम्पोलाइंस को लगाना, शेल्व्स को बनाना और कई तरह के सामानों को इंस्टॉल करना. वह स्केच देखकर बच्चों के लिए बंक बेड्स से लेकर फैमिली के लिए बीस्पोक फर्नीचर बना सकते हैं.

जेम्स पहले एक वेयरहाउस में काम करते थे. उन्होंने 2 साल पहले अपना जॉब छोड़ दिया था. क्योंकि उनके तीन बच्चों में से 2 ‘ऑटिस्टिक’ नाम के डिसऑर्डर से ग्रसित हैं और वे बच्चों की देखभाल में लौरा की मदद करना चाहते थे. लौरा ने बताया कि जेम्स, मोटर मैकेनिक्स की पढ़ाई के लिए वापस कॉलेज जाने की प्लानिंग कर रहे हैं. वह पढ़ाई के दौरान भी काम करते रहेंगे ताकि फैमिली इनकम प्रभावित ना हो. लौरा ने कहा- हमें एक घर से एवरेज 3400 रुपए मिल जाते हैं और कोई भी काम छोटा नहीं होता है.

इनमें दीवार पर टीवी फिट करने से लेकर फेंस पेंट करने तक का काम भी होता है. हम लोग डिसेबल लोगों, देखभाल करने वालों, और 65 से ऊपर की उम्र के लोगों को डिस्काउंट भी देते हैं.

RELATED ARTICLES

Most Popular