फसलों की बढ़ोत्तरी के लिए किया जाता है यूरिया का इस्तेमाल, जानिए किन फसलों में नहीं किया जाता यूरिया का उपयोग

Written by Ankita

Published on:

फसलों की बढ़ोत्तरी के लिए किया जाता है यूरिया का इस्तेमाल, जानिए किन फसलों में नहीं किया जाता यूरिया का उपयोग, देखा जाये तो फसलों की बढ़ोत्तरी के लिए ही यूरिया का इस्तेमाल किया जाता है. इससे खेत की उपजाऊ मिट्टी प्रभावित होती है. और कई फसलों के खेतों में यूरिया नहीं डाला जाता है. साथ ही एक रिपोर्टे ने बताया कि यूरिया एक रासायनिक उर्वरक है और यह नाइट्रोजन का बड़ा स्त्रोत माना जाता है. लेकिन कुछ फसलों में यूरिया की जरूरत नहीं होती है आइये जानते है इन फसलों के बारे में.

यह भी पढ़े:-किसानो को तिल की खेती कर कम समय में होगा तगड़ा मुनाफा, जानिए इसकी बुवाई से लेकर कटाई तक पूरी जानकारी

इन फसलों में नहीं डाला जाता यूरिया

हम आपको बताते है कि कुछ ऐसी फसले जिसमे यूरिया का उपयोग नहीं किया जाता है. रेशेदार फसले जैसे- कपास, सन और जुट इन फसलों में यूरिया की आवश्यकता नहीं होती है और कुछ दलहन की फसले जैसे- चना, मूंग, मटर और अरहर आदि पोधो की जड़ में नमी होने से इसमें भी यूरिया नहीं डलता हैं. इन फसलों में मिट्टी की नमी के कारण वायुमंडलीय नाइट्रोजन को अवशोषित करके पोधो का रूप परिवर्तित कर देता है. इसके आलावा कई छोटे पौधे जैसे- टमाटर, बैंगन और मिर्च में यूरिया का उपयोग नहीं किया जाता हैं. इन फसलों पर यूरिया का इस्तेमाल करने से पत्तिया जलने लगती है जिससे फसल को नुकसान हो सकता है.

इन चीजों पर करें भरोसा

यह भी पढ़े:-क्या आलू खाने से हो रही डायबिटीज मरीजों को समस्या, जानिए क्या है आलू खाने के साइडइफ़ेक्ट

मिट्टी विशेषज्ञ द्वारा मिट्टी की जांच करवा कर पता कर लें कि आपके खेत में कौन-कौन से पोषक तत्वों की कमी है और कितनी मात्रा में कमी है। इस प्रकार आप मिट्टी की उर्वरक क्षमता का पता लगा सकते है साथ ही, कृषि विज्ञान केंद्रों के विशेषज्ञ फसलों के लिए उर्वरक के प्रयोग के बारे में सही जानकारी ले सकते हैं. और फसलो में उर्वरक का इस्तेमाल किस वक्त करना है इसके बारे में सही जानकारी प्राप्त कर सकते है. वैसे तो सभी किसान इसका उपयोग करते है और इसके लिए मिट्टी का परीक्षण करना जरुरी है.

Leave a Comment