Thursday, September 29, 2022
Homeदेश की खबरेPolitics News: कांग्रेस में रहा है ये आदमी, कहां से बोल लेता...

Politics News: कांग्रेस में रहा है ये आदमी, कहां से बोल लेता है ये- शहजाद पूनावाला पर बरसे उदित राज,

Politics News: कांग्रेस में रहा है ये आदमी, कहां से बोल लेता है ये- शहजाद पूनावाला पर बरसे उदित राज, बीजेपी प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस नेता उदित राज को चुनौती दी कि अगर हिम्मत है तो सिर्फ एक बात बता दो तुम्हारी पार्टी ने हिंदू टेरर की शब्दावली गढ़ी। आज मोहसिन ने जो किया है उसको इस्लामिस्ट टेरर कहो।

दिल्ली के बटला हाउस से पकड़े गए आईएसआईएस के संदिग्ध मोहसिन अहमद की गिरफ्तारी के बाद देश में नई चर्चा शुरू हो गई है। इस मुद्दे पर हो रही एक टीवी डिबेट में बीजेपी प्रवक्ता शहजाद पूनावाला और कांग्रेस नेता उदित राज के बीच तीखी बहस देखने को मिली। दोनों ने एक-दूसरे पर खूब आरोप लगाए। उदित राज ने पूनावाला को गैर जमीर का आदमी कहा और आरोप लगाया कि वो अपनी कौम के लिए खड़े नहीं होते। तो वहीं, बीजेपी प्रवक्ता ने भी उन पर जमकर वार किया।

उदित राज ने भड़क कर पूनावाला पर हमला करते हुए कहा, “कांग्रेस में रहा है ये आदमी, कहां से बोल लेता है ये। इस आदमी का कोई जमीर ही नहीं है। ये गैर जमीर का आदमी है। मैं अपनी कौम के लिए खड़ा होता था, लेकिन ये आदमी कौम का गद्दार है। ये मुसलमानों का गद्दार है उन पर अत्याचार हो रहा है।”

इस पर शहजाद पूनावा भी गुस्से में आ गए और उदित राज पर आरोप लगाया कि बीजेपी से टिकट नहीं मिला तो वो कांग्रेस में शामिल हो गए। उन्होंने कहा, “उदित राज का कहना है कि मैं कौम के लिए नहीं खड़ा होता। ये बात बिल्कुल ठीक है मैं संविधान और देश के लिए खड़ा होता हूं और अगर इसके लिए मुझे गद्दार कहा जाता है तो मैं गद्दार बनने के लिए ठीक हूं। मैं देश का गद्दार नहीं बन सकता, मैं पार्टी का गद्दार बन सकता हूं, इसलिए कांग्रेस को लात मारकर बाहर निकला, जिसकी नीतियां ऐसी थीं।”

उन्होंने उदित राज से सवाल करते हुए कहा, “तुम्हें जब बीजेपी से टिकट नहीं मिली तो उस पार्टी के पास चले गए, जिसने सेना के चीफ को सड़क का गुंडा कहा, जिसने कहा श्रीराम का हलफनामे पर असत्तिव नहीं है, जिसने सर्जिकल स्ट्राइक का सुबूत मांगा, जिसने कहा पुलवामा हिंदुस्तान ने किया है पाकिस्तान ने नहीं, जिसने कहा कि 26/11 हिंदुओं की साजिश थी। तुम उस पार्टी में सिर्फ इसलिए चले गए क्योंकि तुम्हें टिकट नहीं मिला। तुम कौम के नहीं, सिर्फ टिकट के लालची हो।”