Wednesday, February 1, 2023
Homeउन्नत खेतीइस साल संभाल कर रखें प्याज, प्याज के बीज की मांग घटी,...

इस साल संभाल कर रखें प्याज, प्याज के बीज की मांग घटी, कीमत 2000 से 500 रूपये हुआ बीज का रेट, क्षेत्रफल भी घट गया

इस साल संभाल कर रखें प्याज, प्याज के बीज की मांग घटी, कीमत 2000 से 500 रूपये हुआ बीज का रेट, क्षेत्रफल भी घट गया। खेती कम होने से प्याज का अपेक्षित भाव नहीं मिल पा रहा है। इसके अलावा, भंडारण के दौरान पर्यावरण के कारण खराब होने की दर अधिक होती है। इसके अलावा हर साल बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से प्याज को नुकसान होता है, इसलिए इस साल किसानों का प्याज की खेती के प्रति रुझान कम है। किसानों ने कहा कि बीजों की मांग कम होने से कीमत 500 रुपये और कुछ दिनों के बाद 200 रुपये से 300 रुपये तक आने की संभावना है।

क्यों प्याज के बीज की मांग घटी (Why the demand for onion seeds decreased)

maxresdefault 5 1

प्याज को उम्मीद के मुताबिक दाम नहीं मिल रहा है और खेती का रकबा घट रहा है. इससे प्याज के बीज की मांग घटी, पिछले साल बीज की कीमत जो 2,000 रुपये प्रति किलो थी, वह इस साल घटकर 500 रुपये रह गई है इसलिए इस साल के प्याज को बचाने का समय आ गया है। जिले में आमतौर पर डेढ़ से दो हजार हेक्टेयर क्षेत्र में प्याज का कब्जा है। उसके मुकाबले इस साल प्याज की बुवाई सिर्फ 500 हेक्टेयर में होने की संभावना है। जाहिर है इस साल बीजों की मांग में कमी आई है। इससे निर्माताओं को भारी नुकसान होने की आशंका है।

इस साल संभाल कर रखें प्याज, प्याज के बीज की मांग घटी, कीमत 2000 से 500 रूपये हुआ बीज का रेट, क्षेत्रफल भी घट गया

प्याज की खेती कम होने से घटे बीज के रेट (Seed rates reduced due to reduction in onion cultivation)

maxresdefault 4 3

खेती कम होने से प्याज का अपेक्षित भाव नहीं मिल पा रहा है। इसके अलावा, भंडारण के दौरान पर्यावरण के कारण खराब होने की दर अधिक होती है। इसके अलावा हर साल बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि के कारण किसान इस साल प्याज की बुआई कम कर रहे हैं। किसानों ने कहा कि बीजों की मांग कम होने से कीमत 500 रुपये और कुछ दिनों के बाद 200 रुपये से 300 रुपये तक आने की संभावना है।

ये भी पढ़े- गेहूं की ये नयी किस्म देगी 1 एकड़ में 83.3 क्विंटल की पैदावार, आय से होगा चार गुना ज्यादा फायदा, जानिए इस किस्म के बारे में

2000 रूपये किलो से घटकर 300 रुपये से 500 रुपये हो गई बीजो के दाम (The price of seeds decreased from Rs 2000 per kg to Rs 300 to Rs 500.)

corp tax 1

हर साल प्याज के बीज की कीमत में इजाफा हो रहा है। इस साल इसके विपरीत है। खेती का रकबा कम होने से बीजों की मांग कम हो गई और बीज की कीमत जो पिछले साल 2000 रुपये थी वह अब घटकर 300 रुपये से 500 रुपये हो गई है।

प्याज उत्पादकों और उपभोक्ताओं को सही दाम नहीं मिल पा रहा है (Onion growers and consumers are not getting the right price)

sddefault

पिछले साल प्याज उत्पादकों और उपभोक्ताओं को भी प्याज की अपेक्षित कीमत नहीं मिली थी। भंडारण में प्याज के खराब होने की दर अधिक होने से किसानों को भारी नुकसान हुआ है.
हालांकि देखा जा रहा है कि शुरुआती दौर में व्यापारियों को जमीन के भाव पर प्याज खरीदकर दाम बढ़ने पर बेचने से व्यापारियों को काफी मुनाफा हो रहा है। उसकी तुलना में निर्माताओं को झटका लगा है।

ये भी पढ़े- Soyabean Rate: सोयाबीन के भाव ने छुए आसमान, 7800 रूपये/क्विंटल में बिक रही है सोयाबीन, जानिए पूरी खबर

क्या खेती को नुकसान होने पर मुआवजा देगी सरकार (Will the government give compensation for damage to agriculture?)

क्या मिलेगा मुआवजा खराब मौसम और बारिश से प्याज के पौधे को काफी नुकसान हुआ है। दाम गिरने से किसानों के पास बीज पड़े हैं। इस प्रकार प्याज उत्पादकों को भारी नुकसान होने के कारण सरकार मुआवजे की मांग कर रही है।

प्याज की खेती का क्षेत्रफल भी घट गया (The area under onion cultivation has also decreased.)

02 11 2020 onion news 21006159

जिले में प्याज की खेती का रकबा भी कम हुआ है, आमतौर पर हर साल डेढ़ से दो हजार हेक्टेयर में प्याज की खेती होती है। इसकी तुलना में इस साल 500 से 800 हेक्टेयर में इसकी बुवाई होने की संभावना है। प्याज का अपेक्षित मूल्य नहीं मिलने समेत अन्य कारणों से रकबा घट रहा है। किसानों को भी बाजार पर ध्यान देना चाहिए।

इस साल संभाल कर रखें प्याज, प्याज के बीज की मांग घटी, कीमत 2000 से 500 रूपये हुआ बीज का रेट, क्षेत्रफल भी घट गया

क्या कहते है किसान जानिए (Know what the farmer says)

पिछले साल प्याज के बीजों की भारी मांग थी और इससे इसकी कमी हो गई। दर दो हजार तक पहुंच गई थी। इसकी तुलना में इस साल बीज तो मिल रहे हैं, लेकिन मांग कम है। यह गणित हर साल एक जैसा होना चाहिए। प्रकृति की बेरुखी के चलते हर साल फसलों का इंतजार रहता है। उत्पादन लागत की तुलना में प्याज की कीमत नहीं मिलती है। बढ़ती कीमतों की प्रत्याशा में किन वस्तुओं का स्टॉक किया जाना चाहिए? यह एक बड़ा सवाल है।

RELATED ARTICLES

Most Popular