Business

Reliance Q4 results : आ गए भारत की सबसे बड़ी कंपनी के तिमाही नतीजे…डिविडेंड देकर करेंगे मालामाल

Reliance Q4 results:रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) ने वित्त वर्ष 2024 के लिए मजबूत नतीजे दर्ज किए हैं। कंपनी के मुनाफे में हालांकि 4% की ही बढ़ोतरी हुई है, लेकिन कर-पूर्व लाभ 11% बढ़कर 1 लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर गया है. यह भारत के लिए एक बड़ी उपलब्धि है कि कोई कंपनी इतना अधिक कर-पूर्व लाभ कमा रही है।

कंपनी की कुल आय 11% बढ़कर 10 लाख करोड़ रुपये

आय के मामले में भी रिलायंस ने अच्छा प्रदर्शन किया है। कंपनी की कुल आय 11% बढ़कर 10 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गई है. वहीं Ebitda (एबिटडा) में 16% की वृद्धि दर्ज की गई है और यह 1.8 लाख करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गया है। Ebitda मार्जिन भी 17.9% पर रहा।

मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस को वैश्विक रूप से ईंधन की मजबूत मांग और रिफाइनिंग सिस्टम में सीमित लचीलेपन का फायदा मिला है, जिससे कंपनी के O2C सेगमेंट के मार्जिन और लाभप्रदता को सहारा मिला है। O2C कंपनी का प्रमुख तेल से रसायन सेगमेंट है जो तेल रिफाइनिंग और विभिन्न पेट्रोकेमिकल्स कारोबारों में लगा हुआ है।

हालांकि, रिलायंस की रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि डाउनस्ट्रीम रासायनिक उद्योग ने पूरे वर्ष चुनौतीपूर्ण बाजार स्थितियों का सामना किया। कंपनी का कहना है कि लागत प्रबंधन को प्राथमिकता देने वाले अपने ऑपरेटिंग मॉडल के माध्यम से अग्रणी उत्पाद स्थिति और फीडस्टॉक लचीलापन बनाए रखने के बावजूद चुनौतियों का सामना करना पड़ा।

दूसरी ओर, कंपनी के KG-D6 क्षेत्र में उत्पादन में तेजी से बढ़ोतरी ने रिलायंस के तेल और गैस सेगमेंट में कम कच्चे तेल की कीमतों की भरपाई करने में मदद की है। सेगमेंट ने Ebitda में 48% की वृद्धि दर्ज की है जो 5,606 करोड़ रुपये रहा। Ebitda मार्जिन भी 330 आधार अंक बढ़कर 86.7% पर पहुंच गया है।

Ebitda में 18% की सालाना वृद्धि दर्ज

रिलायंस का रिटेल डिवीजन भी अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। Ebitda में 18% की सालाना वृद्धि दर्ज की गई जो 5,829 करोड़ रुपये रही है। मार्जिन भी 60 आधार अंक बढ़कर 8.6% हो गया। स्टोरों की संख्या बढ़ने के साथ सेगमेंट ने राजस्व में लगभग 11% की वृद्धि देखी गई। कंपनी अब देश भर में 18,836 स्टोर संचालित करती है, जो एक साल पहले 18,040 थी।

कंपनी की डिजिटल सेवाओं के क्षेत्र में भी अच्छी प्रगति देखी गई है। Jio Platforms सहित कई तरह की डिजिटल सेवाओं को शामिल करने वाले इस सेगमेंट ने 14,644 करोड़ रुपये का Ebitda दर्ज किया, जो साल-दर-साल 9% अधिक है। हालांकि, कंपनी ने अपने यूजर बेस में लगभग 10% सालाना वृद्धि दर्ज की है जो 481.8 मिलियन ग्राहकों पर पहुंच गई है, लेकिन औसत राजस्व प्रति उपयोगकर्ता (Arpu) में वृद्धि 2% से कम 181.7 रुपये रही। Arpu टेलीकॉम क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण मीट्रिक है जिसका इस्तेमाल सेवा प्रदाताओं की वित्तीय स्थिरता को ट्रैक करने के लिए किया जाता है।

Back to top button