साल 2024 में कब पड़ रही है मौनी अमावस्‍या? आइये जानते है स्‍नान-दान का शुभ मुहूर्त और महत्व

Written by Ankita

Published on:

Mauni Amavashya 2024: साल 2024 में कब पड़ रही है मौनी अमावस्‍या? आइये जानते है स्‍नान-दान का शुभ मुहूर्त और महत्व, मान्यताओं के अनुसार हिन्दू धर्म में मौनी अमावस्या को विशेष महत्व दिया जाता है. इस दिन मनु ऋषि का जन्म हुआ था इसी कारण से इसे मौनी अमावस्या कहा जाने लगा है. हर साल माघ के महीने में कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को इसके अलावा मौनी अमावस्या के दिन पितरों का तर्पण करने से पूर्वज प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद मिलता है। आती है. इस साल यह तिथि 9 फरवरी को पड़ रही है. इस दिन गंगा स्नान और दान पुण्य करना बहुत फलदायी होता है. इसके आलावा सूर्य देव और भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करना भी शुभ माना जाता है. तो आइये आज हम जानते है मौनी अमावस्या के बारे में.

यह भी पढ़े:-अधिक चुकंदर खाना हो सकता है शरीर के लिए नुकसानदायक साबित, आइये जानते है चुकंदर खाना क्यों है फायदेमंद

मौनी अमावस्या 2024 शुभ मुहूर्त

इसका शुभ मुहूर्त कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि 9 फरवरी को सुबह 8 बजकर 2 मिनट पर आरम्भ हो जायेगा। और अमावस्या तिथि का समापन 10 फरवरी को सुबह 4 बजकर 28 मिनट पर होगा। इस प्रकार से मौनी अमावस्या तिथि 9 फरवरी 2024 पड़ रही है.

मौनी अमावस्या को करें इन चीजों का दान

इस अमावस्या के दिन कई लोग तिल, चावल, तिल के लड्डू, वस्त्र, आंवला, तिल का तेल और धन आदि का दान-पुण्य करते है. साथ ही कुछ लोग गर्म कपड़ों का भी दान करते है. इस दिन दान करना शुभ माना जाता हैं. ऐसा करने से मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है.

यह भी पढ़े:-शीत लहर से बचाव के लिए करें इन फूड आइटम्स का सेवन, इम्युनिटी बनाएं मजबूत

मौनी अमावस्या का महत्व

हिन्दू मान्यता के अनुसार मौनी अमावस्या के दिन पवित्र नदियों में डूबकी लगाने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। इस दिन गंगा स्नान का सबसे अधिक महत्व है. इस दिन उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में हजारों की संख्या भक्तगण संगम में स्नान करने पहुंचते है. मौनी आमवस्या के दिन स्नान के साथ पूजा-पाठ और दान करने से हजारों गुना अधिक फल की प्राप्ति होती है. इस दिन सूर्य देव को दूध और तिल के साथ अर्घ्य देने से हर मनोकामना पूर्ण हो जाती है. इसके अलावा मौनी अमावस्या के दिन पितरों का तर्पण करने से पूर्वज प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद मिलता है और विशेष फल की प्राप्ति होती है. इस दिन जो लोग पवित्र नदियों में स्नान नहीं कर पाते है वो अपने घर पर ही पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान कर सकते है.

Leave a Comment