धर्म

Shami Plant: वास्तु नियम के अनुसार, घर में शमी का पौधा लगाना है बेहद शुभ, हर बाधाओं का होगा नाश

Shami Plant: वास्तु नियम के अनुसार, घर में शमी का पौधा लगाना है बेहद शुभ, हर बाधाओं का होगा नाश, हिन्दू धर्म में घर में शमी का पौधा लगाना बहुत शुभ होता है वास्तु के अनुसार शमी का पौधा काफी शुभ माना जाता है जैसे तुलसी के पौधे में भगवान विष्णु का वास होता है। अगर आपके घर के आसपास लगाने से सुख शांति मिलती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शमी का पौधा बेहद चमत्कारी पौधा है। वास्तु के अनुसार इसका पूजन करने से शनिदोष का प्रभाव कम होता है साथ ही दरिद्रता का नाश होता है। लेकिन अगर आपने शमी का पौधा लगाया है तो आप कुछ वास्तु नियम को जान लें।

यह भी पढ़े:-Fennel Seeds Water: सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है सौंफ के बीज का पानी, रोजाना पीने से मिलेंगे 5 जबरदस्त फायदे

शमी का पौधा लगाने की सही दिशा

अगर आप घर में कोई भी पौधा लगाते है तो वास्तु के अनुसार लगाना चाहिए। वास्तु के अनुसार समय का पौधा घर के अंदर नहीं लगाना चाहिए। इसे आप घर की छत पर या बालकनी में लगा सकते है। शमी के पौधे को लगाने की सही दिशा दक्षिण दिशा मानी जाती है। इस दिशा में लगाना बहुत शुभ होता है। शमी के पौधे में भगवान का वास होता है। अगर आप शमी के पौधे के पास साफ-सफाई नहीं करते है तो इससे भगवान क्रोधित होते है।

क्यों की जाती है शमी के पौधे की पूजा?

मान्यता के अनुसार भगवान राम ने शमी के पेड़ का पूजन किया था। इसलिए रामायण में शमी के पौधे का विशेष महत्व बताया गया है। इसलिए शमी का पौधा बेहद प्रभावशाली माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, शमी के पौधे की पूजा करने से शनिदोष का प्रभाव दूर होता है। साथ ही, नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है।

यह भी पढ़े:-गरीब किसान पन्नालाल महतो ने लगाया ऐसा देसी जुगाड़ और बना डाली खेती करने की मशीन, देख दंग हुए लोग

भगवान शिव और शनिदेव को चढ़ती है शमी

सनातन धर्म में भगवान शिव की पूजा में शमी का इस्तेमाल किया जाता है। शमी से शिव अत्यंन्त प्रसन्न होते हैं। शनिवार के दिन शमी के पेड़ का पूजन किया जाता है। शनिदेव का शमी के पत्तों से पूजन करना शुभ होता है। इसके अलावा भगवान गणेश और मां दुर्गा की पूजा में भी शमी के पत्तों का उपयोग करना शुभ माना गया है। अगर आप शमी के पौधे के पास सरसों के तेल का दीपक रखते है तो घर की सभी बाधाओ से मुक्ति मिलती है।

Back to top button