Saturday, February 4, 2023
HomeBusiness ideaदुनिया की सबसे महँगी गाय जो देती है 50 से 80 लीटर...

दुनिया की सबसे महँगी गाय जो देती है 50 से 80 लीटर तक दूध, कीमत सुन उड़ जायेगे आपके होश, जाने इस नस्ल के बारे में

Gir breed cow: दुनिया की सबसे महँगी गाय जो देती है 50 से 80 लीटर तक दूध, कीमत सुन उड़ जायेगे आपके होश, जाने इस नस्ल के बारे में। देश में दूध की खपत के हिसाब से दुग्धोत्पादन नहीं हो पा रहा है। दूध उत्पादन बढ़ाने को लेकर सरकार की ओर से पशुपालकों को डेयरी खोलने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसके लिए उन्हें लोन और सब्सिडी का लाभ प्रदान किया जाता है। नाबार्ड के तहत डेयरी उद्योग को सहायता प्रदान की जाती है।

ये भी पढ़े- राशन कार्ड धारकों के लिए बुरी खबर, अब इन लोगो को नहीं मिलेगा फ्री राशन, जानिए पूरी खबर

गाय की गिर नस्ल जो देती है 50 से 80 लीटर तक दूध

Gir breed of cow which gives 50 to 80 liters of milk

यदि आप भी डेयरी खोलना चाहते हैं या पशुपालन करते हैं तो ये खबर आपके लिए काफी उपयोगी हो सकती है। आज हम बात करेंगे गाय की गिर नस्ल की, जो 50 से लेकर 80 लीटर तक दूध दे सकती है। बता दें कि गिर गाय के दूध की बाजार में काफी मांग है और इसका दूध सामान्य गाय के मुकाबले महंगा बिकता है। इतना ही नहीं इसके दूध से बने घी की डिमांड भी काफी है। आज हम आपको ग्रामीण मीडिया के माध्यम से अधिक दूध देने वाली गाय की गिर नस्ल की जानकारी दे रहे हैं।

maxresdefault 2022 12 19T095641.998

गिर नस्ल की गाय के दूध में सोने के तत्व पाए जाते है

Gold elements are found in the milk of Gir cow.

गिर यह गाय अच्छी दुग्ध उत्पादकता के लिए जानी जाती है। इस गाय के दूध में सोने के तत्व पाए जाते हैं जिससे रोगप्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है।

यहाँ जानिए गिर नस्ल की गाय की पहचान कैसे करे

Know here how to identify Gir breed cow

hqdefault 34
  • इस गाय के शरीर का रंग सफेद, गहरे लाल या चॉकलेट भूरे रंग के धब्बे के साथ या कभी कभी चमकदार लाल रंग में पाया जाता है। 
  • इस नस्ल की गाय के कान लंबे होते हैं और लटकते रहते हैं। इसकी सबसे अनूठी विशेषता उनकी उत्तल माथे हैं जो इसको तेज धूप से बचाते हैं। 
  • यह मध्यम से लेकर बड़े आकार में पाई जाती है। मादा गिर का औसत वजन 385 किलोग्राम तथा ऊंचाई 130 सेंटीमीटर होती है जबकि नर गिर का औसतन वजन 545 किलोग्राम तथा ऊंचाई 135 सेंटीमीटर होती है। 
  • इनके शरीर की त्वचा बहुत ही ढीली और लचीली होती है। सींग पीछे की ओर मुड़े रहते हैं।
  • यह गाय अपनी अच्छी रोग प्रतिरोध क्षमता के लिए भी जानी जाती है। यह नियमित रूप से बछड़ा देती है। पहली बार 3 साल की उम्र में बछड़ा देती है।
  • गिर गायों में थन अच्छी तरह विकसित होते हैं।
  • ये पशु विभिन्न जलवायु के लिए अनुकूलित होते हैं और गर्म स्थानों पर भी आसानी से रह सकतें हैं।

जानिए इस गिर नस्ल की गाय को पालने के फायदे

Know the benefits of rearing this Gir breed cow

गिर गाय एक दिन में करीब 12 लीटर से अधिक दूध देने की क्षमता रखती है। जिसमें 4.5 प्रतिशत तक वसा पाया जाता है। एक बियान में यह गाय औसतन लगभग 2110 किलोग्राम तक दूध का उत्पादन देती है। गुजरात में गिर ने एक बयात में 8200 किलोग्राम दूध दिया है। गुजरात के एक फार्म हाउस में गिर गाय का एक दिन में 36 किलो दूध देने का रिकॉर्ड दर्ज है जबकि ब्राजील में गिर गाय से 50 किलो दूध एक दिन में लिया जा रहा है।

ये भी पढ़े- पेंशन धारकों के लिए खुशखबरी, इन राज्यों में फिर से शुरू होंगी पेंशन योजना प्रणाली, मोदी सरकार ने किया बड़ा ऐलान

गिर गाय को और भी कई नामो से जाना जाता है

Gir cow is also known by many other names

गिर गाय की स्वर्ण कपिला व देवमणी नस्ल की गाय सबसे अच्छी गाय मानी जाती हैं। स्वर्ण कपिला 20 लीटर दूध प्रतिदिन देती है तथा इसके दूध में फैट सबसे अधिक 7 प्रतिशत होता है। स्वदेशी पशुओं में गिर का नाम दूध देने में सबसे आगे आता है। इस गाय को क्षेत्रीय भाषाओं कई अन्य नामों से जाना जाता है, जैसे- भोडली, देसन, गुराती और काठियावाड़ी आदि। 

maxresdefault 2022 12 19T095620.068

जानिए कितने साल का होता है गिर गाय का जीवनकाल

Know how many years is the life span of Gir cow

गिर भारत के एक प्रसिद्ध दुग्ध पशु नस्ल है। यह गुजरात राज्य के गिर वन क्षेत्र और महाराष्ट्र तथा राजस्थान के आसपास के जिलों में पाई जाती है। गिर गाय का जीवन काल 12 से 15 वर्ष तक का हो सकता है। ये अपने जीवनकाल में 6 से 12 बच्चों को जन्म देती है। इसका वजन करीब 400 से 475 किलोग्राम तक हो सकता है।

90 रुपए से लेकर 120 रुपए प्रति लीटर बिकता है गिर नस्ल की गाय का दूध

Milk of Gir breed cow is sold from Rs 90 to Rs 120 per liter

बात करें इसके दूध की कीमत की तो खबरों के मुताबिक इसके दूध की कीमत बड़े शहरों में 90 रुपए से लेकर 120 रुपए प्रति लीटर है। यदि आप इसे छोटी, डेयरी, दूध विक्रेता या ग्वाले या ब्रांडेड पैकेट से खरीदते हैं तो इसकी औसत कीमत 50 से 70 रुपए प्रति लीटर होती है। भाव में थोड़ा उतार-चढ़ाव हो सकता है। 

2000 रुपए/किलो है गिर नस्ल की गाय के घी की कीमत

The price of Ghee of Gir breed cow is Rs 2000/kg.

खबरों के मुताबिक, गिर गाय के दूध से बने घी की कीमत 2000 रुपए/किलो तक बताई जा रही है।

sddefault 20

गिर नस्ल की गाय की कैसे देखभाल करें और उन्हें कैसी जगह पर रखा जाये जिससे उन्हें कोई दिक्कत न हो

How to take care of Gir breed cow and how to keep them in such a place that they do not face any problem

  • गिर नस्ल की गाय की देखभाल अच्छे से करनी चाहिए। इसके लिए आरामदायक आवास शेड होना चाहिए। 
  • शेड ऐसा होना चाहिए जिससे तेज बारिश, धूप, ठंड और परजीवी से आसानी से बचाव हो सके। 
  • शेड में पर्याप्त हवा की व्यवस्था होनी चाहिए। गर्मियों में पंखा व कूलर की व्यवस्था होनी चाहिए ताकि तेज गर्मी से पशु को आराम मिल सकें। 
  • पशुओं की संख्या के अनुसार भोजन के लिए खुली जगह और पर्याप्त स्थान होना चाहिए। 
  • पशुओं का बाडा या शेड साफ सुधरा होना चाहिए। पशु के गोबर व मूत्र के निस्तारण की उचित व्यवस्था होनी चाहिए।

गिर नस्ल की गाय को कोनसा चारा और आहार दे यहाँ जाने

Know which fodder and diet to give to Gir breed cow

गिर नस्ल की गाय की आहार व्यवस्था उचित तरीके से करनी चाहिए। पशु के आहार पर ही दूध की मात्रा और उसकी गुणवत्ता निर्भर करती है। इसलिए पशु को पर्याप्त मात्रा में पोष्टिक तत्व युक्त आहार देना चाहिए। गिर गाय के लिए आहार व्यवस्था इस प्रकार से की जा सकती है।

  • गाय की खुराकी में मक्का, जौं, ज्वार, बाजरा, छोले, गेहूं, जई, चोकर, चावलों की पॉलिश, मक्की का छिलका, चूनी, बड़वें, बरीवर शुष्क दाने, मूंगफली, सरसों, बड़वे, तिल, अलसी, मक्की से तैयार खुराक, गुआरे का चूरा, तोरिये से तैयार खुराक, टैपिओका, टरीटीकेल आदि को शामिल किया जाना चाहिए।
  • हरे चारे के रूप में बरसीम की सूखी घास, लूसर्न की सूखी घास, जई की सूखी घास, पराली, मक्की के टिंडे, ज्वार और बाजरे की कड़बी, गन्ने की आग, दूर्वा की सूखी घास, मक्की का आचार, जई का आचार आदि को शामिल किया जा सकता है।
  • गाय की प्रतिदनि की खुराक मे मक्की/ गेहूं/ चावलों की कणी, चावलों की पॉलिश, छाणबुरा/ चोकर, सोयाबीन/ मूंगफली की खल, छिल्का रहित बड़वे की खल/सरसों की खल, तेल रहित चावलों की पॉलिश, शीरा, धातुओं का मिश्रण, नमक, नाइसीन आदि को भी शामिल कर सकते हैं। 
  • वहीं गाभिन गिर गाय को एक किलो से अधिक मात्रा में दाना देना चाहिए, क्योंकि ये गाय शारीरिक रूप से भी बढ़ती है।

गिर नस्ल के अलावा अधिक दूध देने वाली गाय की अन्य उन्नत नस्लें के बारे में भी जान ले

Apart from the Gir breed, also know about other advanced breeds of cows that give more milk.

अधिक दूध देने वाली गाय की उन्नत नस्लों में गिर गाय का नाम सबसे ऊपर आता है। इसका मूल स्थान सौराष्ट्र, गुजरात है। इस गाय से सालाना-2000-6000 लीटर दूध का उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है। इसके अलावा अन्य नस्ल की गाय भी अधिक दूध देती है, जो इस प्रकार से हैं-

साहिवाल गाय

इस गाय का प्राप्ति स्थान उत्तरप्रदेश, हरियाणा और पंजाब है। ये गाय सालाना-2000-4000 लीटर दूध दे सकती है।

लाल सिंधी

इस नस्ल की गाय का उत्पत्ति स्थल सिंध माना जाता है लेकिन अब पूरे भारत में इसका पालन किया जा रहा है। इस गाय की दूध देने की क्षमता सालाना-2000-4000 लीटर है।

राठी

इस नस्ल की गाय सालाना-1800-3500 लीटर दूध दे सकती है। इसका प्राप्ति स्थान-राजस्थान, हरियाणा, पंजाब है।

थरपारकर

इस गाय का प्राप्ति स्थान सिंध, कच्छ, जैसलमेर , जोधपुर है। ये गाय सालाना 1800 से 3500 लीटर दूध दे सकती है।

कांकरेज-

इस नस्ल की गाय सालाना 1500-4000 लीटर दूध दे सकती है। इसका प्राप्ति स्थान उत्तरी गुजरात व राजस्थान है।

RELATED ARTICLES

Most Popular