मध्यप्रदेश

न्याशिस सामाजिक समिति के युवाओं ने पर्यावरण संरक्षण की दिशा में नदी स्वच्छता अभियान के अन्तर्गत की सीहोर आंवली घाट की सफाई

आंवली घाट/सीहोर :- न्याशिस सामाजिक समिति के युवाओं ने पर्यावरण संरक्षण की दिशा में नदी स्वच्छता अभियान के अन्तर्गत की सीहोर आंवली घाट की सफाई। आंवली घाट पर लगातार श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है। नर्मदा का जल अब शहरों तक भी पहुंच रहा है ऐसे में शहर के निवासियों की जिम्मेदारी बनती है की वह भी नर्मदा नदी को स्वच्छ रखें उसकी चिंता करें इसी भाव से पर्यावरण के लिए युवाओं की भूमिका सुनिश्चित करने के लिए आंवली घाट (नर्मदा तट सीहोर जिले) पर सफाई अभियान और जनजागरण का अभियान चलाया गया।

यह भी पढ़े- 27 February 2024 Ka Panchang: 27 फरवरी दिन मंगलवार का पंचांग, जानिए राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय

50 से अधिक युवाओं ने लिया इस कार्यक्रम में भाग

न्याशिस सामाजिक समिति भोपाल से 50 से अधिक युवाओं ने इस कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम में एकत्रित हुए युवाओं को नर्मदा समग्र के कार्यकर्ता समाज सेवी, रेड क्रॉस सोसाइटी मध्य प्रदेश के सचिव, भाजपा चुनाव प्रबंधन समिति मध्य प्रदेश के प्रबंधक, डॉक्टर प्रदीप त्रिपाटी द्वारा युवाओं को मार्गदर्शन मिला एवं आपके द्वारा युवाओं को गंतव्य के लिए विदा किया गया।

मार्ग में स्थित देलावाड़ी जंगल में “जंगल संवाद” का सत्र रखा गया जहां सभी को बताया गया कि मां नर्मदा जी में जल हिमालय से नही इन जंगलों से आता है। छोटी- छोटी जल धारा जंगलों से एक – एक बूंद एकत्रित करते हुए नर्मदा जी को अपना सहयोग करती है। इसके साथ ही जंगल हमारे जीवन चक्र के लिए कितना आवश्यक है उस पर चर्चा की गई जंगल में विचरण करने वाले जानवरों को इंसानों द्वारा नुकसान पहुंचाया जाता, जंगलों में पिकिनिक मनाने से जंगल के चक्र को कितना नुकसान पहुंचाया जाता है उस पर सभी ने अपनी राय प्रकट की।

माइक साउंड के माध्यम से घाट पर आए श्रद्धालुओं को दी गई समझाइश

घाट पहुंचते ही सभी को युवाओं को टीम में विभाजित कर घाट की सफाई की गई इसके साथ – साथ एक टोली द्वारा माइक साउंड के माध्यम से घाट पर आए श्रद्धालुओं को समझाइश दी गई उन्हें रोका- टोका गया की आस्था और श्रद्धा के नाम पर हम नर्मदा जी को प्रदूषित कर रहे हैं वह ऐसा न करे नर्मदा के घाट साक्षात गर्भगृह है, तरल ब्रह्म हम उसे कूड़ा दान न समझे घाट पर सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग बंद हो, कपड़े छोड़ कर न जाए ऐसे सभी बिंदुओं द्वारा समझाया गया।

यह भी पढ़े- Sankashti Chaturthi 2024: कब मनाई जाएगी फाल्गुन माह की संकष्टी चतुर्थी? जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

घाट सफाई के बाद सभी ने स्नान किया गया जिसके बाद सामूहिक नर्मदाअष्टक और नर्मदा आरती के बाद दीप दान किया गया। कार्यक्रम के समापन्न्न पर नर्मदा समग्र, नर्मदापुरम भाग टोली सदस्य विनय यादव जी द्वारा आस्था और धर्म के भाव को तर्क संगत जीवन शैली का हिस्सा बनाने के लिए कहा युवाओं से आह्वान किया की पंच तत्वों में से किसी भी एक तत्व के लिए काम करना चाहिए। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से नर्मदा समग्र घाट टोली नहलाई सदस्य मुकेश यादव, अशोक महाले, अशोक ठाकरे, कैलाश सोनी, नर्मदा समग्र आंवली घाट सदस्य संदीप शर्मा एवं न्याशिस सामाजिक समिति के कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button