Friday, September 30, 2022
HomeTrendingतीन बार बिकी थी लड़की और हर बार रेप की शिकार, अब...

तीन बार बिकी थी लड़की और हर बार रेप की शिकार, अब कॉलेज की पढ़ाई के बाद शुरू होती है नई जिंदगी

News Desk India: तीन बार बिकी थी लड़की और हर बार रेप की शिकार, अब कॉलेज की पढ़ाई के बाद शुरू होती है नई जिंदगी उसे दरिंदों ने तीन बार बेचा था. कई बार वो बलात्कार की शिकार हुई. लेकिन इन त्रासदियों से उबरती हुई अब उस महिला ने जिंदगी का एक नया सफर शुरू किया है. अब उसे कॉलेज परिसर में एक नई सुबह दिखाई दे रही है. वो किशोरी अब कॉलेज छात्रा बन चुकी है उसे दरिंदों ने तीन बार बेचा था. कई बार वो बलात्कार की शिकार हुई. लेकिन इन त्रासदियों से उबरती हुई अब उस महिला ने जिंदगी का एक नया सफर शुरू किया है. अब उसे कॉलेज परिसर में एक नई सुबह दिखाई दे रही है. वो किशोरी अब कॉलेज छात्रा बन चुकी है. इस किशोरी को चार महीने के भीतर ही विभिन्न राज्यों में मानव तस्करों द्वारा बेच दिया गया था. इस दौरान कई बहशियों ने उसके साथ शारिरीक संबंध बनाए. इतना ही नहीं, उससे 30 साल बड़े व्यक्ति से उसकी जबरन शादी करा दी गई थी. इस किशोरी की दास्तान के बारे में पश्चिम बंगाल के एक सीआईडी अधिकारी ने पीटीआई को बताया.उत्तर 24 परगना जिले की एक पोक्सो अदालत ने हाल ही में 22 साल की महिला के मामले में चार लोगों को 20 साल और दो अन्य को 10 साल की सजा सुनाई है.

सीआईडी अधिकारियों ने एक महिला और पीड़िता के “प्रेमी” राहुल सहित छह आरोपियों को गिरफ्तार किया. ये गिरफ्तारी बिहार, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से हुई. अंततः पुलिस ने उस किशोरी को इन दिरिंदों के चंगुल से छुड़ा ही लिया.“भगवान की कृपा से, हमें अपनी बेटी वापस मिल गई. जो हुआ सो हुआ. हमें खुशी है कि उसकी दुर्दशा के लिए जिम्मेदार लोगों को दंडित किया गया, ”उसके पिता ने कहा जो एक साड़ी की दुकान में काम करते हैं. परिवार अब किशोरी के लिए एक लड़के की तलाश कर रहे हैं.

किशोरी का यह दर्दनाक सिलसिला सात साल पहले शुरू हुआ था जब वह एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक व्यक्ति से मिली. उस व्यक्ति से उसको प्यार हो गया और एक नए जीवन की उम्मीद और तलाश में स्कूल जाने के बहाने घर से भाग गई.7 जनवरी, 2015 को, वह कोलकाता में साइंस सिटी के पास उस व्यक्ति से मिली और वह उसे बिहार जाने के लिए बस पकड़ने के लिए 10 किलोमीटर दूर बाबूघाट ले गया, राज्य सीआईडी ​​(State CID) की मानव तस्करी रोधी इकाई (Anti- Trafficking Unit) के अधिकारी ने कहा.

जांच में पता चला कि राहुल ने 15 साल की लड़की को बस के अंदर छोड़ आया. उसने उससे कहा था कि वो जल्द वापस आ रहा है. लेकिन वो नहीं आया क्योंकि राहुल ने उसे एक और तस्कर को 1.5 लाख रुपये में बेच दिया था. राहुल का दोस्त होने का दावा करने वाला एक शख्स उसे बस से हावड़ा स्टेशन ले गया और ट्रेन से बिहार पहुंचा. उसे फिर से कमल नाम के एक अन्य व्यक्ति को बेच दिया गया, जो नाबालिग को उत्तर प्रदेश के बिजनौर में एक महिला चित्रा के पास ले गया.किशोरी को छुड़ाने वाली टीम का कहना है कि चित्रा तीसरी व्यक्ति थी जिसने उसे खरीदा था. चित्रा ने जबरन उसकी शादी अपने 45 वर्षीय भाई से कर दी. एक महीने बाद चित्रा के भाई ने उसे चित्रा के पास छोड़ दिया. इसके बाद चित्रा के बेटे ने लड़की के साथ रेप करना शुरू कर दिया.

रेस्क्यु टीम के एक अधिकारी ने कहा,”इसी बीच पीड़िता किशोरी को चित्रा के मोबाइल इस्तेमाल करने का मौका मिल गया. उसने अपनी मां को फोन करके उस जगह के बारे में सूचित कर दिया जहां चित्रा उसे रखी हुई थी.”उस समय तक, पश्चिम बंगाल की पुलिस ने पाया था कि पीड़िता का अपना मोबाइल आखिरी बार बिहार में ट्रेस किया गया था और तब से उसे स्विच ऑफ रखा गया था. बिहार में “बॉयफ्रेंड” को भी गिरफ्तार किया गया था.चित्रा डर गई और कमल को नाबालिग को ले जाने के लिए कहा. सीआईडी अधिकारी ने कहा कि कमल और उनके सहयोगी भीष्म उसे उत्तराखंड के काशीपुर ले आए. जब दोनों को पता चला कि चित्रा और उसके बेटे लव को गिरफ्तार कर लिया गया है, तो वे भड़क गए, पीड़िता के साथ कई बार बलात्कार किया और उसे काशीपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन पर छोड़कर भाग गए.

सीआईडी अधिकारी को याद आया कि कैसे उन्होंने और उनकी टीम ने रेलवे स्टेशन के एक कोने में पीड़ित लड़की को पाया. उन्होंने उसे बचाया और वापस पश्चिम बंगाल ले आए. “वह आघात के कारण बोलने में असमर्थ थी और एक महीने से अधिक समय तक चुप रही. हमें उसे एक मनोवैज्ञानिक के पास ले जाना पड़ा और परामर्श के कई सत्रों के बाद, वह टूट गई और अपनी पीड़ा के बारे में बताया, ”उन्होंने कहा.अधिकारी ने कहा कि यह देखकर खुशी होती है कि मई 2015 में जब उसे बचाया गया तब से वो एक सरकारी घर में रह रही थी…. अब उसने पढ़ाई शुरू कर दी है और अब वह कॉलेज की शिक्षा के लिए योग्य है.

हालांकि, उन्होंने अफसोस जताया कि उनकी टीम उस व्यक्ति का पता नहीं लगा सकी जिसने लड़की को कमल के हाथों बेच दिया.उत्तर 24 परगना जिले के बारासात में एक पॉक्सो अदालत (POCSO COURT) ने छह को दोषी ठहराया. इसने चित्रा और “प्रेमी” राहुल को 10 साल जेल और शेष चार – कमल, चित्रा के भाई, लव और भीष्म – को 28 जुलाई को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई.बारासात कोर्ट के अतिरिक्त लोक अभियोजक श्यामल दत्ता ने कहा कि वह बहुत खुश हैं कि लड़की को न्याय मिला. “यह एक लंबी और कठिन लड़ाई थी. लेकिन मेरा मानना है कि COVID ​​-19 महामारी के कारण न्याय में दो साल की देरी हुई है, ”दत्ता ने कहा।