Thursday, October 6, 2022
Homeमध्यप्रदेशUjjain News :625 घरो का 10 करोड़ रुपए बकाया , निगम करीब...

Ujjain News :625 घरो का 10 करोड़ रुपए बकाया , निगम करीब 20 हजार घरों में पानी पहुंचाने के लिए नई पाइपलाइन बिछा सकता|

Ujjain News : जल ही जीवन है, लेकिन बिना किसी बाधा के घरों तक पहुंचने की कीमत चुकाना भी उतना ही जरूरी है। शहर के 63 हजार उपभोक्ताओं में से 625 ऐसे हैं जिनका 10 करोड़ रुपये बकाया है। इस राशि में निगम करीब 20 हजार घरों में पानी पहुंचाने के लिए नई पाइपलाइन बिछा सकता है. कॉलोनियों के बीच गैप फिलिंग की जा सकती है। इस राशि से ब्लैक स्पॉट तक पानी पहुंचाया जा सकता है।

निगम के पीएचई विभाग ने ऐसे 625 लोगों की सूची तैयार की है और उनसे संपर्क किया जा रहा है, लेकिन अधिकांश जगह बकाया नहीं है. इतना ही नहीं, आम जनता के अलावा सरकारी विभाग भी हैं, जो जलाकर जमा नहीं करते हैं।

इन विभागों पर 43 लाख से अधिक का बकाया भी है। कहीं बजट की कमी या लापरवाही के कारण निगम के बिल जमा नहीं हो रहे हैं. यदि यह राशि जमा कर दी जाती है तो शहर में नई पाइपलाइन बिछाने का काम किया जा सकता है. बजट के अभाव में नगर विकास के कई कार्य अटके पड़े हैं।

सालों से नहीं भरे बिल, अफसरों ने भी नहीं दिया ध्यान

जलाने को एकत्रित न करने में आम जनता की भी उतनी ही लापरवाही है। उनसे कई और अधिकारी हैं। यदि एक माह या दो माह तक बिल जमा नहीं किया जाता है तो अधिकारी विलंब शुल्क वसूल करें या चूककर्ता को नियमानुसार नोटिस दें। फिर भी अगर बिल जमा नहीं होता है तो संपत्ति की जानकारी हटाकर कार्रवाई की जाए, लेकिन नपा अधिकारियों ने कभी ध्यान नहीं दिया. साल दर साल बकाया बढ़ता गया जो अब करोड़ों में पहुंच गया है।

एक कनेक्शन के 140 रुपए, कभी लगते थे 60 रुपए

समय बीतने के साथ निगम की आग भी बढ़ती गई। कभी-कभी तो 15 रुपये महीना भी लिया जाता था। इसके बाद यह 30, 60, 120 और अब 140 रुपये हो गया। पहले निगम के कर्मचारी घर-घर जाकर बिल बांटते थे, फिर जब कर्मचारी कम हो जाते थे तो बिलों का वितरण बंद कर दिया जाता था और डायरी व्यवस्था शुरू कर दी जाती थी। अब सबकी डायरी बनती है, जिसमें महीने के हिसाब से एंट्री होती है। अगर कोई एक साल के लिए एक साथ बिल जमा करता है तो उसे एक महीने की रियायत दी जाती है।

इनमें से ज्यादातर लोगों का बकाया है जलाना, फिर देना नोटिस

  • लक्ष्मणप्रसाद रामप्रसाद भार्गव, अमरसिंह मार्ग : 5 लाख 51 हजार 536
  • भूपेंद्र कुमार अमृतलाल पटवा, पटवा एजेंसी : 6 लाख 95 हजार 215
  • इप्को उज्जैन पाइप फैक्ट्री, सांवेर रोड : 21 लाख 29 हजार 514
  • अब्दुल्ला भाई गुलाम अली भाई, गोंसा दरवाजा : 5 लाख 7 हजार 248
  • राजश्री ट्रेडर्स, उद्योगपुरी : 5 लाख 31 हजार 147 (नोट: 625 बिलों का भुगतान नहीं करता है)
    विभाग भी कर्जदार
  • माधवनगर में स्थित एमपी डेमोक्रेटिक हाउसिंग 37,44,501
  • कमांडेंट, बटालियन 13,39,708
  • कार्यपालक अभियंता लोक निर्माण विभाग 4,31,324
  • गैस या भारत की 5,20 हजार
  • एमपीईबी ज्योति नगर 8,33 हजार रुपये।
  • जिनका रुपये बकाया है। पहले नोटिस दिए गए लेकिन उन्होंने जलाकर जमा नहीं किया। अब सर्वे किया जा रहा है ताकि संपत्ति के बारे में पूरी जानकारी जुटाई जा सके। इसके बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी। निगम द्वारा सख्त नियम बनाए जाएं, इस पर भी विचार किया जा रहा है।

राजीव शुक्ला, प्रभारी कार्यपालक अभियंता, पीएचई नगर निगम